ठगी करने वाला फर्जी ईडी अधिकारी गिरफ्तार

0

देहरादून। देहरादून में रेसकोर्स रोड पर रहन वाले एक बिल्डर के यहां फर्जी ईडी अधिकारी बनकर छापेमारी करने वाले गिरोह के एक युवक को पुलिस ने दिल्ली से गिरफ्तार कर लिया है। इस मामले में गिरोह के मुख्य सरगना समेत तीन लोग अभी भी फरार चल रहे हैं। इसके अलावा फर्जी ईडी अधिकारी बनकर बिल्डर से वसूली गयी रकम की बरामदगी भी पुलिस के लिए बड़ी चुनौती है। रेसकोर्स निवासी और पेशे से बिल्डर यशपाल टंडन के आवास पर दो नवंबर 2015 को फर्जी ईडी अधिकारी बनाकर दो लड़कियों समेत नौ लोगों ने छापेमारी की थी। यह गिरोह टंडन परिवार को आतंकित कर यहां से 22 लाख रुपए नकदी और लाखों के जेवरात ठगकर फरार हो गए। ठगी का अहसास होने पर बिल्डर ने पुलिस को सूचना दी।

 
ये भी पढ़ें – ऑनलाइन ऑर्डर कर मंगाया था मोबाइल लेकिन आया कुछ और

फर्जी ईडी अधिकारी 2

फर्जी ईडी अधिकारी से मिले अहम सुराग

इस मामले में पुलिस ने दिल्ली के एक एनजीओ में काम करने वाली दो युवतियों को गिरफ्तार कर फर्जी ईडी अधिकारी गिरोह का भंडाफोड़ भी कर दिया था। जिसके बाद पांच जनवरी को इस पूरी ठगी प्लान के मास्टरमाइंड को भी गिरफ्तार कर लिया गया। हालांकि मामले में चार लोग फरार चल रहे थे जिनकी तलाश में पुलिस टीम लगातार दबिश दे रही थी। एसपी सिटी अजय सिंह ने बताया कि लक्खीबाग चौकी प्रभारी राकेश शाह के नेतृत्व में पुलिस ने पंकज तिवारी निवासी दक्षिणपुरी थाना अंबेडकर नगर दिल्ली को उसके आवास से गिरफ्तार किया गया। आरोपी पंकज ने पूछताछ में बताया कि उसने छापे के दौरान यशपाल टंडन को आतंकित कर धमकाने का रोल बखूबी अदा किया था। मोटी रकम के साथ कुछ गहने भी उठा लिए थे। गिरोह का सरगना प्रदीप जाते समय सिर्फ 15 हजार रुपये उसे खर्च के लिए दे गया था। पूरा माल वह अपने साथ ही ले गया। बता दें कि इस मामले में अभी तक पांच लोगों की गिरफ्तारी हो चुकी है, लेकिन प्रदीप समेत चार लोग अभी भी फरार हैं, जिनकी तलाश जारी है। एसपी के मुताबिक प्रदीप की गिरफ्तारी के बाद ही वसूली गई रकम मिलने की उम्मीद है।

loading...
शेयर करें