फर्जी जाति प्रमाण पत्रों से ऐडमिशन लेने वालों के लदे दिन, AICTE हुआ सख्त

0

नई दिल्ली। यूनिवर्सिटी और कॉलेज में ऐडमिशन के लिए फर्जी प्रमाणपत्र के इस्तेमाल को लेकर मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने कड़ा रुख अपनाया है। मामले की गंभीरता को देखते हुए एआईसीटीई ने एहतियाती कदम उठाने के लिए इस तरह के मामलों का एक डेटाबेस तैयार करने का फैसला लिया है।

फर्जी प्रमाणपत्र

फर्जी प्रमाणपत्र लगाने पर सरकार ने जताई चिंता

एक हालिया सर्कुलर में ऑल इंडिया काउंसिल फॉर टेक्निकल एजुकेशन (एआईसीटीई) ने कहा है कि भारत सरकार शैक्षणिक संस्थानों में दाखिले के लिए फर्जी अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति और ओबीसी प्रमाणपत्रों के इस्तेमाल के संबंध प्राप्त होने वाली शिकायतों को लेकर चिंता जताई है। भारत सरकार द्वारा जताई गई चिंता को देखते हुए एआईसीटीई ने सभी संस्थानों को दाखिला प्रक्रिया के दौरान फर्जी प्रमाणपत्रों को पकड़ने की व्यवस्था बनाने के लिए कहा है।

इसने संस्थानों से हर साल डेटा भी एआईसीटीई के साथ साझा करने को कहा है ताकि एक डेटाबेस तैयार किया जा सके और एहतियाती कदम उठाए जाएं। एआईसीटीई देश में सैकड़ों इंजिनियरिंग कॉलेजों और तकनीकी संस्थानों को मंजूरी देता है।

Edited by- Jitendra Nishad

loading...
शेयर करें