फलों के फेशियल से निखारें अपनी नैचुरल खूबसूरती

0

हमारी त्वचा को रोज़ उड़ने वाली धूल,मिट्टी और धूप का उत्पीड़न झेलना पड़ता है। हवा में होने वाले रसायन प्रदूषण धूल और सूर्य की किरणें हमारी त्वचा को ज्यादा प्रभावित करती है और ताजे़ फल प्रकृति के स्पा का एक भाग हैं जो अच्छे और पोषक तत्व में मौजूद होते है वो अंदरूनी ही नहीं बाहरी स्वास्थ के लिए भी ज़रूरी है। हम सबने कहावत तो सुनी ही है कि दिन का एक सेब डॉक्टर को दूर रखता है। असल में दिन का एक फल डॉक्टर को दूर रखता हैं। फलों में मौजूद होने वाले विटामिन और खनिज पदार्थ शरीर को स्वस्थ रखने के लिए जरूरी है साथ ही साथ ये सुंदर साफ और चमकती त्वचा के लिए भी जरूरी है।

फेशियल

फलों के स्पा से आपकी त्वचा की प्राकृतिक सुंदरता में निखार आता है और साथ ही हानिकारक रसायन युक्त फेशियल करने से मनचाहा परिणाम तो मिलता है पर ये आपकी त्वचा पर दाग धब्बे भी छोड़ देता है। वही दूसरी ओर जो खुशबू फलों के प्राकृतिक स्पा से उत्सर्जित होती है उससे कई फायदे है जैसे त्वचा को तनाव से आराम देना। इसलिए प्रभावी लागत और प्राकृतिक स्पा फलो द्वारा सबसे सही और गारंटी के साथ परिणाम देने वाला उपाय है। इसलिए फलों का फेशियल त्वचा के इलाज में बहुत प्रभावी होते हैं। यह सभी चीजे़ सामान्य त्वचा के स्वास्थ के लिए और विशिष्ट त्वचा की समस्या के निवारण के लिए भी है। फलों के फेशियल में कुछ फल अम्ल जैसे ग्लाइकोलिक एसिड, अल्फा हाइड्रोक्सी एसिड, साइट्रिक एसिड, विटामिन खनिज पदार्थ मौजूद होते है। यह अम्ल दागरोधी सिकुड़न प्रतिरोधी होते है और त्वचा को बेजान होने से बचाते है। यह अत्यधिक विष्हरण पदार्थों से रहित होते है और सभी विष्कात पदार्थों को बाहर निकालकर आपकी त्वचा को निखारते हैं। इन फलों के फेशियल में एंटीआक्सीडेंट ब्यूटी पोषक तत्व और एंज़ाइम एक संतुलित मात्रा में मौजूद होते है जिससे आपकी त्वचा चमकती और स्वस्थ दिखाई देती है।

फलों के फेशियल

त्वचा के प्रकार: दो प्रकार की होती हैं

रुखी त्वचा

तैलीय त्वचा

रुखी त्वचा: रूखी त्वचा की आम विशेषता ये है कि ऐसी त्वचा ज्यादा रूखी और परतदार और निर्जीव होती हैं। ऐसी त्वचा वाले लोगों को झुर्रिया होने लगती हैं और चेहरे की चमक कम हो जाती है। रूखी त्वचा से त्वचा में जलन होने लगती है ऐसे में फलों के फेशियल के लिए विटामिन बी12 और एच युक्त प्रोटीन वाले फेशियल का प्रयोग करें जैसे सेब,अंगूर, केला आदी।

तैलीय त्वचा: ऐसी त्वचा वाले लोंगो की त्वचा चिकनी और चमकीली होती है। इनकी त्वचा के छिद्र बड़े होते है और ऐसे चेहरे पर दाग, पिंपल्स होने की समस्या आम है और इससे बचने के लिए तैलीय त्वचा वाले लोगों को पीले फलों का सेवन करना चाहिए जिससे विटामिन सी और ए मौजूद होते है जैसे संतरा, आम, टमाटर, पपीता आदी।

कई फलों में अल्फा हाइड्रोक्सी अम्ल होता है जो एक प्रकार इस्टर होता है जो तुरंत प्रभाव डालता है। कई ब्यूटी पार्लर में ऐसे मशीन मौजूद होते है जो फलों का एचए इस्तेमाल कर के मसाज करते है और अल्ट्रासोनिक मसाज देते है। आइए जानते है कई प्रकार के फेसपैक्स जो आप घर पर भी तैयार कर सकते है।

ओटमील, बेकिंग सोडा, नींबू का रस और गुलाबजल फेस पैक:

ओटमील फेस पैक त्वचा को फिर से युवा बनाने और गोरा करने के लिए बहुत लाभदायी है। ये पूरे चेहरे को साफ करके उसे चमकदार बनाता है।

2 चम्म्च ओटमील और 1 चम्म्च बेकिंग सोडा को अच्छे से मिलाकर मिश्रण बना ले और इसमें आधा चम्म्च नींबू का रस और 1 चम्म्च गुलाब जल मिला ले । इस मिश्रण को पूरे चहरे और गले तक लगाकर 10 मिनट तक मसाज करे। फिर इसे गुन गुने पानी से साफ करें।

फलों के फेशियल

भूरी चीनी, दूध, दही, शहद फेसपैक:

भूरी चीनी का प्रयोग त्वचा का पॉलिशिंग और डेड सेल्स हटाने के लिए किया जाता है । ये वातावरण से नमी लेकर त्वचा को  खूबसूरत बना देती है । यह प्राकृतिक मॉस्चराइजर की तरह त्वचा को कोमल मुलायम और जलयुक्त बनाती है और त्वचा को टैन होने से भी बचाती है। भूरी चीनी में मौजूद ग्लाइकोलिक एसिड त्वचा को गोरा बनाता है। मुहांसे फुंसियों को दूर रखने के लिए भूरी चीनी के फेशियल का प्रयोग किया जाता है। भूरी चीनी, दूध, दही और शहद को सही मात्रा में लेकर इसके मिश्रण को चेहरे और गर्दन पर लगाकर मसाज करें जब तक भूरी चीनी पिघल न जाए । इसे लगाने के कुछ देर बाद गुनगुने पानी से इसे साफ करे।

फलों के फेशियल

ओटमील और फलो के गूदे का फेसपैक :

फलों के गूदों को त्वचा के मुताबिक प्रयोग किया जाता है। ऐसे कुछ फल उपलब्ध है जिन्हें त्वचा की देखभाल के लिए शुद्ध सामाग्री के साथ प्रयोग किया जाता है, जो विषाणु पदार्थ युक्त होते है और त्वचा को नुकसान नहीं पहुंचाते है।

केला विटामिन ए, बी और ई से भरपूर है। यह प्राकृतिक उम्र विरोधी एजेंट की तरह काम करता है। एक केले और ओटमील को मसल कर मिश्रण बनाए और इस पेस्ट को पूरे चहरे पर लगाए। 15 मिनट के बाद पानी से चेहरे को साफ कर लें। चेहरे को खूबसूरत बनाने के लिए केला सबसे उपयोगी है।

नींबू में मौजूद विटामिन सी त्वचा को सुंदर बनाता है। इसे त्वचा का टोन हल्का करने के लिए उपयोग कर सकते है और इससे मुहांसे के दाग भी हटते है।

सेब से त्वचा जवान रहती है । सेब में एंटीऑक्सीडेंट प्रोपर्टीज होती है जिससे सेल और ऊतकों को खराब होने से रोका जा सकता है।

संतरा त्वचा का रंग निखारने और कसावट लाने में प्रयोग होता है। संतरा विटामिन सी से भरपूर होता है। दाग धब्बे हटाने में मददगार हैं।

पपीता एंटीऑक्सीडेंट का अच्छा श्रोत हैं। इसमें पपायिन नाम का एंजाइम होता है जो डेड सेल्स को हटाता है और त्वचा को साफ करता है। पपीते का मिश्रण बना के चेहरे पर लगांए।

आम एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर होता है। इसके गूदे का मिश्रण बनाकर चेहरे पर लगाया जा सकता है। ये त्वचा को ढीला होने से रोकता हैए नए स्किन सेल्स बनाता है और चेहरे में खिचाव नहीं आने देता।

अब आपको पता है कौन से फल चेहरे के लिए अच्छे है तो अब इन प्राकृतिक फेसपैक को अपनाने में देर न करे। ये त्वचा को साफ करने के साथ दिमाग और आत्मा को भी शु़द्ध करता है।

लेखक

डॉक्टर  नरेश अरोड़ा

चेज एरोमाथैरेपी कॉस्मेटिक्स के संस्थापक

loading...
शेयर करें