बच्चों के खेल ने जला डाली दो बीघा जमीन

0

कानपुर देहात। वह मासूम थे… उन्हें सही-गलत व नुकसान का ज्ञान नहीं था। इसीलिए खेल-खेल में दो बीघे फसल जलकर खाक हो गई। लेकिन समझदार पुलिस ने उन मासूमों पर जमकर लाठी डंडे बरसाए। पुलिस के इस कारनामे ग्रामीण भी सहम गए। जब मामले की जानकारी एसपी तक पहुंची तो उन्होंने दोषी पुलिस वालों के खिलाफ कार्यवाही की बात कही है।

 फसल

जनपद के रूरा क्षेत्र के धनीराम पुर निवासी रमाकांत ओमर की दो बीघे गेंहूँ की फसल खड़ी थी। गांव के दो बच्चे दुर्गेश (6) व नफीस (7) दोपहर में माचिस से खेल रहे थे। इसी दौरान चिंगारी उड़कर खेत में पहुँच गई। जिससे फसल में आग लग गई। तेज हवा चलने से आग ने पूरी फसल को जला दिया। आग की सूचना पाकर सिठमरा चौकी इंचार्ज केपी सिंह और एसआई राजवीर सिंह मौके पर पहुंचे। दोनों ने मामले की जानकारी के बाद दोनों बच्चों को डंडे से पीटना शुरू कर दिया।

ग्रामीण भी पुलिस का रवैया देख सहम उठे। इस मामले की जानकारी जब एसपी पुष्पांजलि को मिली तो उन्होंने कहा कि बच्चों की पिटाई करना गम्भीर अपराध है। मामले की जाँच की जायेगी दोषी पाये जाने पर निश्चित तौर पर दोषी पुलिस कर्मियों के खिलाफ कार्यवाही होगी। वहीँ सदस्य जिला विधिक सेवा प्राधिकरण जितेंद्र प्रताप सिंह ने बताया कि सात वर्ष तक के बच्चों द्वारा किये गए अपराधिक कार्य पर सजा का कोई प्रावधान नहीं है। पुलिस की ओर से बच्चों को शारीरिक तौर से कोई दंड नहीं दिया जा सकता है।

loading...
शेयर करें