फोन नंबर को पाकिस्तान ने नकारा, नहीं माने पठानकोट के सबूत

नई दिल्ली। पठानकोट हमले में जो फोन नंबर भारत ने पाकिस्तान को बतौर सबूत सौंपे थे उनको पाकिस्तान ने नकार दिया है। पाकिस्तान ने शुरुआती जांच पूरी कर ली है। सूत्रों की माने तो पाकिस्तान ने जांच रिपोर्ट भारतीय अधिकारियों को सौंप दी है। पाकिस्तान ने साफ कर दिया कि जो फोन नंबर भारत ने उसे दिए हैं वो पाकिस्तानी नहीं हैं।

भारत की ओर से पाकिस्तान को सबूत के तौर पर वो फोन नंबर सौंपे गए थे जिनके जरिए आतंकिवादियों ने पाकिस्तान में बैठे अपने आकाओं से बात की थी। भारत ने यह भी कहा था कि ये फोन नंबर आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद से जुड़े हुए थे।

फोन नंबर

फोन नंबर पाकिस्तानी नहीं

पाकिस्तान की ओर से शुरुआती जांच में भारत के उस दावे को ठुकरा दिया गया है जिसमें कहा गया था कि हमलावरों ने पाकिस्तानी फोन नंबर पर कॉल की थी। पाकिस्तान ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि सबूत के तौर पर जो फोन नंबर दिए गए थे, वो पाकिस्तान में रजिस्टर्ड नहीं हैं। जांच एजेंसियां हमलावरों को बारे में और पड़ताल कर रही हैं।

गृह मंत्री से मिलीं विदेश मंत्री सुषमा स्वराज

पाकिस्तान के साथ विदेश सचिव स्तर की बातचीत को लेकर सरगर्मी बढ़ गई है। सोमवार को विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने गृह मंत्री राजनाथ सिंह से मुलाकात की। सूत्रों के मुताबिक, पाकिस्तान में पठानकोट हमले की जांच के लिए सयुंक्त जांच दल (JIT) बनाए जाने और कुछ लोगों की गिरफ्तारी के बाद पकिस्तान के साथ विदेश सचिव स्तर की बातचीत किए जाने के मुद्दे पर चर्चा हुई।

राजनाथ ने भी बैठक की

इससे पहले सुबह गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने गृह मंत्रालय में एक बैठक की। इस बैठक में NSA अजीत डोवाल समेत कई आला अधिकारी मौजूद थे। बैठक में पठानकोट हमले के बाद देश के सुरक्षा हालात पर चर्चा हुई और खासतौर पर देश के रक्षा संस्थानों पर मंडरा रहे आतंकी खतरे का जायजा लिया गया।

फोन नंबर

रक्षा मंत्री से भी मिले डोभाल

NSA अजीत डोवाल ने रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर से उनके ऑफिस में मुलाकात की। इस बीच डोभाल ने साफ किया कि फिलहाल पाकिस्तान के साथ बातचीत तभी आगे बढ़ेगी जबकि पाकिस्तान पठानकोट आतंकी हमले में ठोस कार्रवाई करेगा। इसके पहले अमेरिका ने भी पाकिस्तान से पठानकोट हमले के मामले में कार्रवाई करने को कहा था।

तह तक जाना चाहते हैं PM 

पाकिस्तान के अखबार द एक्सप्रेस ट्रिब्यून ने पीएमओ सूत्र के हवाले से कहा है कि शरीफ पठानकोट हमले को लेकर काफी गंभीर हैं। उन्होंने सख्य रवैया अख्तियार कर लिया है। वह इस हमले की तह तक जाना चाहते हैं। शरीफ ने इसे लेकर अपने आर्मी चीफ जनरल राहील शरीफ से भी बात की है।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button