बच्चियों के हाथ से जूस पीकर स्वाति मालीवाल ने तोड़ा अनशन, कहा- मैं अंतिम दम तक लड़ती रहूंगी

नई दिल्ली। उन्नाव-कठुआ गैंगरेप के विरोध में दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल पिछले दस दिनों से अनशन पर बैंठी थी। सरकार द्वारा रेप के खिलाफ फांसी का कानून बनाए जाने पर आज उन्होंने अपना अनशन समाप्त कर दिया है। छोटी बच्चियों का हाथ से जूस पीकर उन्होंने अपना उपवास खत्म किया। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि महिलाओं के अधिकारों व उनकी सुरक्षा के लिए वो अंतिम दम तक लड़ती रहेंगी। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि अगर पीएम नरेंद्र मोदी नहीं मानते तो उनका अनशन लंबा चलता।

महिलाएं सुरक्षित रहें, इसके लिए एक सिस्टम तैयार करेंगे
अनशन खत्म कर स्वाति मालीवाल ने कहा कि अनशन जरुर खत्म हो गया है लेकिन संघर्ष जारी रहेगा। उन्होंने कहा कि महिलाएं सुरक्षित रहें इसके लिए एक सिस्टम तैयार करेंगी। अभी तबियत ठीक नहीं होने के कारण कुछ दिनों तक अस्पताल में रहना होगा, वहां से निकलते ही महिलाओं की सुरक्षा को लेकर काम शुरु किया जाएगा।

उन्होंने कहा कि अगर 3 महीनों में कानून नहीं आया तो वह फिर से अपनी लड़ाई शुरु करेंगी। उन्होंने कहा कि महिलाओं को बलात्कार जैसे मामलों पर अपनी चुप्पी तोड़नी होगी। इसके अलावा हमे घर-घर व स्कूलों में जाकर लोगों को इस बारे में जागरुक करने की जरुरत है। स्वाति द्वारा अनशन तोड़े जाने के समय मंच पर उनके साथ निर्भया के माता-पिता के अलावा नेता अनवर अली मौजूद रहे।

Related Articles