IPL
IPL

बम परीक्षण खुद की रक्षा के लिए

प्योंगयांग। उत्तर कोरिया के शीर्ष नेता किम जोंग उन ने हाइड्रोजन बम के परीक्षण को आत्मरक्षा की दिशा में उठाया गया कदम बताया। पीपुल्स आर्म्ड फोर्सेस मंत्रालय पहुंचे किम ने अधिकारियों से कहा कि यह परीक्षण कोरियाई प्रायद्वीप की शांति और अमेरिका के नेतृत्व में साम्राज्यवादी से परमाणु युद्ध के खतरे की आशंका के मद्देनजर क्षेत्रीय सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए किया गया।

बम

बम परीक्षण देश का कानूनी अधिकार

समाचार एजेंसी केसीएनए के मुताबिक, किम ने कहा, ” परीक्षण एक संप्रभु देश का कानूनी अधिकार और एक उचित गतिविधि है, जिसकी कोई आलोचना नहीं कर सकता।” किम ने सेना की आक्रामक और रक्षात्मक क्षमताएं बढ़ाने की जरूरत पर जोर दिया और किसी भी तरह की परिस्थिति का सामना करने के लिए तैयार होने की बात कही। उत्तर कोरिया द्वारा बुधवार को हाइड्रोजन बम परीक्षण के बाद अपने बचाव में पहली बार इस तरह का बयान आया है।

यह भी पढ़ें- उत्‍तर कोरिया ने हाइड्रोजन बम फोड़कर दुनिया को ललकारा

दक्षिण कोरिया, अमेरिका ने कोरियाई प्रायद्वीप में बमवर्षक तैनात किए

सियोल। उत्तर कोरिया द्वारा हाइड्रोजन बम के सफल परीक्षण के तीन दिन बाद दक्षिण कोरिया और अमेरिका ने कोरियाई प्रायद्वीप में लंबी दूरी के बमवर्षक बी-52 स्ट्रैटोफोर्टरेस की तैनाती की है। दक्षिण कोरिया और अमेरिका ने कहा कि बी-52 बमवर्षक रविवार को अमेरिका के गुआम स्थित एंडरसन वायुसेना अड्डे से रवाना हुआ और यह दक्षिण कोरिया के गेयोंगी प्रांत में ओसान के आकाशीय क्षेत्र में पहुंच गया। दोनों देशों की सेना ने कहा कि दक्षिण कोरिया के दो एफ-15के और अमेरिका के दो एफ-16 विमानों के साथ बमवर्षक ने ओसान में ऊंचाई तक उड़ान भरी।

यह भी पढ़ें- हाइड्रोजन बम टेस्ट करने वाले उत्तर कोरिया पर लगेंगे कई प्रतिबंध

जापान ने बुधवार को उत्तर कोरिया द्वारा हाइड्रोजन बम के परीक्षण की आलोचना करते हुए इसे अपने लिए एक ‘बड़ा खतरा’ बताया। विस्‍तार से पढ़ने के लिए क्लिक करें- हाइड्रोजन बम परीक्षण एक बड़ा खतरा : जापान

 

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button