डेंगू और चिकनगुनिया के बाद दिल्ली में बढ़ा बर्ड फ्लू का खतरा

0

नई दिल्ली। देश की राजधानी दिल्ली में एक बार फिर जानलेवा बीमारी बर्ड फ्लू का खतरा मडंरा रहा है। वहां के लोग पहले डेंगू और चिकनगुनिया से काफी परेशान थे। अब बर्डफ्लू की बात सुनकर लोगों में दहशत का माहौल बन गया है। बताया जा रहा है कि पिछले 36 घंटे में 8 पक्षियों की मौत ने देश की राजधानी में हड़कंप मचा दिया।

बर्ड फ्लू

बर्ड फ्लू से अक्सर मरीजों की हो जाती है मौत

डेंगू और चिकनगुनिया के बाद दिल्ली में एक और आफत आन पड़ी है। एक ऐसी बीमारी जो पक्षियों से इंसानों में फैलती है । बर्ड फ्लू का वायरस इतना खतरनाक होता है कि मरीज की मौत तक हो जाती है। बर्ड फ्लू की दहशत ऐसी है कि दिल्ली में पहले चिड़ियाघर बंद हुआ फिर कल दक्षिणी दिल्ली का डियर पार्क भी बंद कर दिया गया।

17 पक्षियों की हुई मौत

दिल्ली के अलग-अलग इलाकों में अब तक 17 पक्षियों की मौत हो गई है। बर्ड फ्लू की आशंका के चलते चिड़ियाघर के बंद होने के बाद भी सरकार की तमाम कोशिशें नाकाम दिख रही हैं और पिछले 24 घंटे में 8 और पक्षियों की मौत हो गई। हौज़ खास के डीयर पार्क में भी दो पक्षी मरे हुए मिले।

दिल्ली सरकार करेगी जांच

दिल्ली सरकार की टीम दोपहर 12 बजे गाजीपुर मुर्गा मंडी जाएगी और वहां पक्षियों की जांच करेगी। जिसके बाद ही फैसला लिया जाएगा कि चिकन खाने वालों को क्या एहतियात बरतने की जरूरत है। सरकार ने अलग-अलग जगहों से 50 सैंपल जालंधर की लैब को भेजे हैं, साथ ही रैपिड रिस्पांस टीम की संख्या भी 6 से बढाकर 10 कर दी गई है और हालात सामान्य होने तक पशुपालन और स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारियों की छुट्टियां तक रद्द कर दी गई है।

जानें बर्ड फ्लू के लक्षण

बर्ड फ्लू यानी चिड़ियों को होने वाली वो बीमारी जिसके वायरस मुर्गी के जरिए इंसानों तक भी पहुंच सकते हैं। ये बीमारी इतनी खतरनाक है कि कब महामारी का रूप ले ले कहा नहीं जा सकता।

बर्ड फ्लू तीन तरह के वायरस से होता है जिनमें एवियन इंफ्लूएंजा, एच5एन1 और इंफ्लूएंजा ए वायरस शामिल हैं। इसमें एच5एन1 सबसे खतरनाक माना जाता है। H5N1 वायरस पक्षियों में होता है और पक्षियों से होते हुए वायरस आसानी से इंसान के शरीर में प्रवेश कर सकता है।

बर्ड फ्लू का वायरस एक पक्षी से दूसरे पक्षी में आसानी से फैल सकता है, पक्षी के जरिए ये वायरस मुर्गी में पहुंचता है और फिर मुर्गी के जरिए इंसान के शरीर तक। बर्ड फ्लू का सबसे ज्यादा खतरा उन लोगों को है जो पक्षियों का काम करते हैं या फिर पोल्ट्री फॉर्म हाउस में रहते हैं। एक बार इंसान में बर्ड फ्लू का वायरस घुस गया तो फिर उसे तेजी से बीमार करता है। इस वायरस के कारण फेफड़ों में इंफेक्शन हो जाता है और सांस लेने में दिक्कत होती है।

जब ये शरीर में जाता है तब बुखार आना, खांसी आना, गला खराब होना, मांसपेशियों में दर्द और कंजंक्टिवाइटिसवायरस जैसी दिक्कतें होने लगती हैं।

 

loading...
शेयर करें