बाबा हरदेव सिंह का आज होगा अंतिम संस्कार

0

बाबा हरदेव सिंहनई दिल्ली। निरंकारी बाबा हरदेव सिंह का आज दिल्ली के निगमबोध घाट पर अंतिम संस्कार होना है। इससे पहले अंतिम यात्रा निकाली जाएगी। ग्राउंड नंबर 8, बुराड़ी रोड से उनकी अंतिम यात्रा निकाली जानी है। जो निगमबोध घाट पर संपन्न होगी।

बाबा हरदेव सिंह का अंतिम संस्कार सीएनजी शवदाह गृह में

बाबा हरदेव सिंह का अंतिम संस्कार सीएनजी शवदाह गृह में दोपहर 12 बजे किया जाएगा। उनकी अंतिम यात्रा के लिए तैयारी चल रही है। सरोवर ग्राउंड पर लगभग एक लाख लोग मौजूद हैं। उनका पार्थिव शरीर दिल्ली स्थित बुराड़ी बाईपास के ग्राउंड नंबर-8 में एक विशेष चैंबर में रखा गया है।

अंतिम संस्कार के बाद आज शाम को निरंकारी सरोवर के सामने ग्राउंड नंबर 2 में 3 से 7 बजे तक श्रद्धांजलि समारोह होगा। बीते शुक्रवार को कनाडा में एक सड़क दुर्घटना में उनका निधन हो गया था। बाबा के साथ उनके दामाद भी इस हादसे में चल बसे। दुनिया भर में बाबा के करोड़ों अनुयायी हैं, जो इस हादसे से दुखी हैं।

बाबा कार में न्यूयॉर्क से कनाडा के मॉन्ट्रियल जा रहे थे। उनके दोनों दामाद अवनीत और सन्नी उनके साथ थे। सन्नी खुद गाड़ी चला रहे थे। कार की रफ्तार तेज थी। भारतीय समयानुसार सुबह लगभग साढ़े पांच बजे कार अचानक पलट गई। हादसे में तीनों घायल हो गए। तीनों को अस्पताल पहुंचाया गया। इस घटनामें 62 वर्षीय बाबा हरदेव सिंह और उनके दामाद अवनीत की मौत हो गई।

क्या है निरंकारी समुदाय?

निरंकारी समुदाय की उत्पत्ति पंजाब के उत्तर-पश्चिम में बसे रावलपिंडी से हुई जो अब पाकिस्तान का हिस्सा है। इस समुदाय की स्थापना सहजधारी सिख बाबा दयाल सिंह और एक स्वर्ण व्यापारी ने की थी। ब्रिटिश राज में हालांकि इस समुदाय को दरकिनार कर दिया गया। बाद में 1929 में संत निरंकारी मिशन की स्थापना हुई। आज की तारीख में इस समुदाय के करोड़ों अनुयायी भारत से लेकर विदेशों में फैले हैं।

 

loading...
शेयर करें