बाढ़ से प्रदेश में कहीं पर भी न हो जन-धन की हानिः जलशक्ति मंत्री

लखनऊ। जलशक्ति मंत्री ने कहा है कि प्रदेश में कहीं पर भी बाढ़ से जन-धन हानि नहीं होनी चाहिए। यह शासन-प्रशासन की नैतिक जिम्मेदारी है। सभी तटबन्धों पर जनरेटर लगाकर प्रकाश की समुचित व्यवस्था सुनिश्चित की जाय। प्रदेश के जलशक्ति मंत्री डाॅ. महेन्द्र सिंह ने यह निर्देश रविवार को अपने सरकारी आवास पर वीडियो काॅन्फ्रेंसिंग के माध्यम से बाढ़ प्रभावी क्षेत्रों में बाढ़ सुरक्षा एवं अन्य आवश्यक बचाव कार्यों की समीक्षा करते हुए दिए।

जल शक्ति मंत्री ने कहा कि तटबन्धों की निगरानी के लिए इमरजेन्सी लाइट एवं बड़ी टाॅर्च अवश्य उपलब्ध करायी जाय। प्रत्येक तटबन्धों की निगरानी के लिए प्रभावी गश्त की जाए। मंत्री ने कहा कि बाढ़ राहत कार्यों में लापरवाही किसी भी सूरत में बर्दाश्त नहीं की जायेगी। बाढ़ का कार्य युद्धस्तर पर किया जाए। बाढ़ की चुनौती से निपटने के लिए पहले से ही तैयारियां सुनिश्चित कर ली जाएं। जलशक्ति मंत्री ने कहा कि प्रदेश के सभी बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में 24 घण्टे कड़ी निगरानी की जाए। अवर अभियन्ता (जेई) तटबन्धों के पास ही रूक कर निगरानी करें। मंत्री ने कहा कि समय-समय पर क्षेत्रीय प्रतिनिधियों को बाढ़ की स्थिति से अवगत कराएं। साथ ही उनके सुझाव पर भी विचार करें।

प्रमुख अभियन्ता एके सिंह ने बताया कि कोविड-19 में बाढ़ के कार्यों में जो विलम्ब हुआ है उसको तत्काल कराया जा रहा है। उन्होंने बताया कि सिंचाई विभाग के इतिहास में यह पहली बार सभी तटबन्धों पर कार्य इतनी तेजी कार्य पूर्ण किये जा रहे हैं। जिन नदियों में कटाव हो रहे हैं, उनकी धाराओं को विपरीत दिशा में मोड़ने के लिए कार्य किये जा रहे हैं, जिससे कि किसानों की फसलों का नुकसान न होने पाए। इस अवसर पर विभागाध्यक्ष सिंचाई विभाग एवं प्रमुख अभियन्ता वीके निरंजन सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित रहे

Related Articles