आर्मी चीफ की पाक को धमकी: सर्जिकल स्ट्राइक के अलावा हमारे पास कई और तरीके

0

नई दिल्ली। भारतीय सेना प्रमुख बिपिन रावत पाकिस्तान को अपने करतूतों से बाज आने को कहा है। उन्होंने कड़े शब्दों में कहा है कि सर्जिकल स्ट्राइक के अलावा हमारे पास कई और तरीके हैं सबक सिखाने के। एक अंग्रेजी अखबार से बातचीत के दौरान उन्होने ये बात कही। उन्होंने कहा कि हम बर्बर नहीं और न ही हमें सैनिकों के सिर इकट्ठा करने का शौक है।

बिपिन रावत

बिपिन रावत ने कहा कि हम शांति वापस लाने की कोशिश कर रहे हैं

हिंदुस्तान टाइम्स को दिए इंटरव्यू में में बिपिन रावत ने पाकिस्तान की बॉर्डर एक्शन टीम (BAT) की की हरकतों के बारे में बात करते हुए कहा कि पाकिस्तान का यह मानना है कि यह एक आसान युद्ध है जो उन्हें लाभांश दे रहा है, लेकिन सर्जिकल स्ट्राइक के अलावा भी हमारे पास और रास्ते हैं जो कि ज्यादा प्रभावी है। हमारी सेना बर्बरा नहीं है। हमें सिर इकट्ठा करने का शौक नहीं है क्योंकि वह एक सभ्य फौज है।

इसके अलावा अमेरिका द्वारा हिज़बुल मुजाहिद्दीन के प्रमुख सैयद सलाउद्दीन को गोल्बल टेरिरिस्ट घोषित किये जाने पर जनरल रावत ने कहा कि हम इतजार करेंगे और देखेंगे कि पाकिस्तान वास्तव में उस लगाम लगाता है या नहीं। घाटी पर हिंसा और अलगावादियों से बातचीत को लेकर उन्होंने कहा कि बातचीत तब होती है जब शांति हो। आर्मी सिर्फ अपना काम कर रही है। हम शांति वापस लाने की कोशिश कर रहे हैं। मैं ऐसे व्यक्ति से बात करूंगा जो मुझे आश्वस्त करे कि मेरे काफिले पर हमला नहीं किया जाएगा। जिस दिन ऐसा होगा, मैं खुद बातचीत करूंगा।

रावत ने कहा कि भारतीय सेना कश्मीरी युवाओं तक पहुंचने की कोशिश कर रही है। लोगों को कई तरह की गलत सूचनाएं दी गई है। 12-13 साल के लड़के कहते हैं कि वह बॉम्बर बनना चाहते हैं। हम युवा नेताओं की पहचान कर रहे हैं जिनसे हम बात कर सकें। उन्होंने कहा कि मैं चाहता हूं कि लोग हिंसा छोड़ दें। हम नहीं चाहते कि क्रॉस फायर में बेगुनाह पकड़े जाए। हमें कोई भी अतिरिक्त मुकसान नहीं चाहिए।

गौरतलब है कि गत 1 मई को पाकिस्तान की आर्मी ने एलओसी पार करते हुए भारतीय सीमा में 250 मीटर तक अंदर घुसकर दो सैनिकों की हत्या कर दी थी। उन्होंने उन सैनिकों के साथ बर्बरता की। जिसके बाद सेना ने इसका बदला लेते हुए पाकिस्तान की दो चौकियों को तबाह कर दिया था। लेकिन फिर पाकिस्तना नहीं माना उसने जून में भी दो सैनिकों की हत्या का दी।

loading...
शेयर करें