बुर्कीना फासोः 18 देशों के 28 लोगों की मौत

ऊगाडूगू। अफ्रीकी देश बुर्कीना फासो की राजधानी ऊगाडूगू में शनिवार को आतंकियों ने एक होटल पर हमला कर दिया था। आतंकियों ने 12 घंटे से भी ज्यादा समय तक लोगों को बंधक बनाए रखा। खबर मिली है कि इस हादसे में 18 देशों के कम से कम 28 लोगों की मौत हुई है। वहीं सुरक्षाबलों ने सभी चारों आतंकियों को मारकर 120 बंधक छुड़ा लिए हैं और 30 लोग जख्मी हैं।

बुर्कीना फासो

बुर्कीना फासो हादसे में इटली, रूस, कनाडा और फ्रांस के नागरिक मारे गए

घबराए लोगों ने अपने आप को 12 घंटे तक बाथरूम में छिपाए रखा। खबर मिली है कि मृतकों में इटली, रूस, कनाडा, स्विट्जरलैंड और फ्रांस जैसे देशों के नागरिक शामिल हैं। इनमें पांच साल के एक बच्चे और उसकी मां की भी पहचान हुई है, जो इटली के थे।

आतंकियों में दो महिलाएं भी शामिल
सुरक्षा बलों ने बताया कि आतंकियों में दो महिलाएं भी शामिल थीं। एक की भाषा अफ्रीकी ही थी। वे जिस गाड़ी से आए थे, उस पर पड़ोसी मुल्क नाइजर की नंबर प्लेट थी। चश्मदीदों के मुताबिक आतंकी अल्लाहू अकबर चीखते हुए होटल में दाखिल हुए थे। फ्रेंच और अरबी में भी बात कर रहे थे। उन्होंने साहेल इलाके में पहनी जाने वाली पगड़ी बांध रखी थी।

अलग-अलग देशों के लोगों को मारना ही था मकसद
बुर्किना फासो के सुरक्षा मंत्री साइमन कॉम्पाओर ने इस हमले की पुष्टि की है। तीन आतंकियों के शवों की पहचान कर ली गई है। आतंकियों का मकसद अलग-अलग देशों के ज्यादा से ज्यादा लोगों को मारना था। जिस होटल पर हमला हुआ वहां यूएन स्टाफ ठहरता है और यह पश्चिमी देशों के लोगों में लोकप्रिय है।

अल कायदा: ‘हमने खून और लाश के चिथड़ों से पैगाम लिखा है’
इस हमले की जिम्मेदारी आतंकी संगठन अल कायदा ने ली है। उसने एक वीडियो जारी कर कहा है कि ‘हमने खून और लाश के चिथड़ों से पैगाम लिखा है’। चश्मदीदों ने बताया कि स्प्लेंडिड होटल के बाहर दो कार बम धमाके हुए। इसके बाद तीन से चार हमलावर होटल में घुस गए। इस होटल में ज्यादातर संयुक्त राष्ट्र के कर्मचारी ठहरते हैं।

आतंकियों पर करेंगे आक्रामक कार्रवाई
विदेश मंत्री अल्फा बेरी के कहा है कि सुरक्षाबलों ने बंधकों को छुड़ाने के लिए आक्रामक कार्रवाई की। उन्होंने हमले के बाद कहा था कि फ्रांसीसी सुरक्षा बलों समेत विदेशी सुरक्षाकर्मियों की भी मदद ली जा सकती है। हमले की जिम्मेदारी अल कायदा से जुड़े इस्लामिक मगरिब नाम के आतंकी गुट ने ली है।

दो महीने पहले ही माले में हुआ था हमला
पिछले साल नवंबर में पड़ोसी देश माली की राजधानी माले में रैडिसन ब्लू होटल पर भी ऐसा ही हमला हुआ था। उसमें भी 21 लोग मारे गए थे। इसकी जिम्मेदारी भी अल कायदा से ही जुड़े एक आतंकी गुट ने ली थी। वहां भी आतंकियों ने कई लोगों को बंधक बना लिया था। इसके बाद 10 दिन का आपातकाल भी लगा दिया गया था। बुर्कीना फासो में हाल ही में राष्ट्रपति चुनाव हुए थे। ये चुनाव पिछले साल ही सैन्य तख्तापलट के बाद हुए थे। सैन्य तख्तापलट में 27 सालों से शासन कर रहे ब्लेस कैंपाउरे को पद से हटा दिया गया था।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button