बैंक को 12 करोड़ की चपत लगा द‍ी इन दो मैनेजरों ने

0

नई दिल्ली/विशाखापत्तनम। CBI ने आंध्र प्रदेश में इंडियन ओवरसीज बैंक की शाखाओं के दो प्रबंधकों और कुछ अन्य लोगों पर जाली दस्तावेज के आधार पर कर्ज जारी कर बैंक को 12 करोड़ रुपये की चपत लगाने का मामला दर्ज किया है। ये प्रबंधक पश्चिमी गोदावरी जिले की वेलपुर और पालाकोल्लु शाखाओं में काम करते हैं। इन पर आपराधिक षड्यंत्र, धोखाधड़ी और भ्रष्टाचार निवारण कानून के प्रावधानों के तहत मामले दर्ज किए गए हैं।

बैंक

बैंक मैनेजरों की तलाश में CBI

CBI ने दोनों बैंक प्रबंधकों और कुछ अन्य लोगों के पश्चिमी गोदावरी के पालाकोदुरु, तानुकु और एलुरु इलाकों में स्थित घरों पर छापे मारकर दस्तावेज जब्त किए हैं। आरोप है कि वेलपुर के प्रबंधक ने एक निजी फर्म के भागीदार और 11 अन्य लोगों के साथ मिलकर बैंक के साथ धोखाधड़ी की और जून 2011 से फरवरी 2013 के बीच बैंक को 841.98 लाख रुपये का नुकसान पहुंचाया।

क्‍या कहा CBI ने

CBI के एक अधिकारी ने बताया कि बैंक प्रबंधक ने एक निजी फर्म के नाम पर 560 लाख के मियादी कर्ज की संस्तुति की। इसी तरह कुछ अन्य कागजी कंपनियों के कर्मचारियों के नाम पर भी मियादी कर्ज को मंजूरी दी। अधिकारी ने कहा कि इसी तरह पालाकोल्लु के प्रबंधक ने भी जाली दस्तावेजों के आधार पर कुछ लोगों के नाम पर 360 लाख रुपये के कर्ज को पास कर दिया।

loading...
शेयर करें