पीएनबी और बीओआई ने कर्ज सस्ता किया

0

नई दिल्ली। स्टेट बैंक के बाद पंजाब नेशनल बैंक और यूनियन बैंक का कर्ज भी सस्ता हो गया। रविवार को स्टेट बैंक में अपनी कर्ज की दरों में कटौती की थी। उसके बाद पंजाब नेशनल बैंक और यूनियन बैंक में भी अपने कर्ज को सस्ता कर दिया है।

नई दरें
बैंक               नई दरें        पुरानी दरें
पीएनबी        8.45 %    9.15 %
यूबीआई       9.3 %        8.65 %

दो और बैंक शामिल
ध्यान रहे नए वर्ष की पूर्व संध्या पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बैंकों को ग्राहकों के हित में सही कदम उठाने के लिए आगाह किया था। इसी का नतीजा है कि एक के बाद एक बैंक अपना कर्ज सस्ता कर रहे हैं। पंजाब नेशनल बैंक ने अपनी वर्तमान ब्याज की दर 9.15 फीसदी से घटाकर 8.45 फीसदी कर दिया है। यूनियन बैंक में अपनी वर्तमान कर्ज की दर को 9.3 फीसदी  से घटाकर 8.65 फीसदी कर दिया है। नई दरें तत्काल प्रभाव से लागू हो गई हैं।
सस्ता मिलेगा कर्ज
इससे इन बैंकों के ग्राहकों को सस्ता कर्ज मिलने का रास्ता साफ हो गया है। यही नहीं पुराने कर्जदारों को भी नई ब्याज दरों के हिसाब से ही कर्ज चुकाना होगा इससे उन पर ब्याज की देनदारी कम हो जाएगी। अगर पुराने ग्राहक अपनी किस्त को नई ब्याज दरों के हिसाब से कम नहीं कराते हैं, तो उनका लोन समय से पूर्व ही पट सकता है।
नहीं सुनी थी राजन की
रिजर्व बैंक के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन बैंकों से ब्याज दर घटाने के लिए कहते कहते थक गए थे, लेकिन बैंकों ने उनकी नहीं सुनी थी। हालांकि बाद की घटनाओं ने बैंकों को कर्ज की दरों को कम करने के लिए मजबूर कर दिया।
नोट बंदी का फायदा
नोट बंदी के दौरान बैंकों के पास जमा के रूप में काफी बड़ी रकम आई है। पहले इसी रकम को पाने के लिए बैंक जमा पर काफी ज्यादा ब्याज दे रहे थे, लेकिन अब बैंकों के खाते में ही कई लाख करोड़ रुपए आ चुके हैं। बैंकों के सामने सबसे बड़ी समस्या इस पैसे पर दिया जाने वाला ब्याज है। इसीलिए बैंक कर्ज सस्ता करके जल्द से जल्द इस पैसे को लोगों में कर्ज के रूप में बांटना चाहते हैं।
मोदी की सख्ती का असर
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नए साल की पूर्व संध्या पर बैंकों को अपने ग्राहकों के प्रति ज्यादा संवेदनशील होने के लिए कहा था। जानकारों का मानना है कि ब्याज दरों के घटने में एक बड़ा कारण नरेंद्र मोदी की सख्ती का भी है।

loading...
शेयर करें