भाजपा और कांग्रेस के बीच नए स्टिंग को लेकर हुआ बवाल

0

भाजपानई दिल्ली। उत्तराखंड में चल रही सियासत में अब नया मोड़ आ गया है। 10 मई को उत्तराखंड विधानसभा में विश्वास मत होना है। इससे पहले नए स्टिंग वीडियो के सामने आने से सियासी गर्मी बढ़ गई है। पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत पर निशाना साधते हुए भाजपा ने उन पर विधायकों को खरीदने की कोशिश करने का आरोप लगाया है।

भाजपा पर रावत ने लगाया आरोप

उत्तराखंड संकट को लेकर राजनीतिक लड़ाई तेज होने के बीच रावत ने एनडीए सरकार और भाजपा पर ‘ब्लैकमेल की राजनीति’ करने और इस पर्वतीय राज्य में ‘अशांति’ फैलाने का आरोप लगाया। उन्होंने यह आरोप भी लगाया कि कांग्रेस विधायकों को धमकी दी जा रही है और केंद्रीय एजेंसियां उनके फोन टैप कर रही हैं।

दिल्ली में रविवार को एक निजी न्यूज चैनल द्वारा जारी एक स्टिंग वीडियो में रावत को निशाना बनाया गया है जिसमें कांग्रेस के बागी विधायक हरक सिंह रावत और कांग्रेस विधायक मदन सिंह बिष्ट के बीच की कथित बातचीत दिखाई गई है। बिष्ट ने वीडियो में कहा है कि हरीश रावत अपने गुट को एकजुट रखने के लिए अपने विधायकों को धन दे रहे हैं।भाजपा नेता भगत सिंह कोशियारी ने आरोप लगाया कि वीडियो में दिखा है कि हरीश रावत खुद ही विधायकों की खरीद फरोख्त में शामिल हैं।

बीजेपी और कांग्रेस एक दूसरे पर लगा रहे हैं आरोप

सिंह ने दावा किया कि पहले भी एक स्टिंग हुआ था और अब एक नया स्टिंग वीडियो भी आ गया। जिसमें विधायक कह रहा है कि मुख्यमंत्री खुद ही अपने विधायकों को 25-30 लाख रुपए दे रहे हैं ताकि उन्हें मना सकें। वहीं कांग्रेस ने पटलवार करते हुए आरोप लगाया है कि बीजेपी विश्वास मत से पहले हरीश रावत के खिलाफ एक साजिश रच रही है। पार्टी ने राज्यपाल केके पॉल को भी पत्र लिख कर यह मांग की है कि बीजेपी नेता और उत्तराखंड प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय को राज्य से तब तक दूर रखा जाए जब तक कि विश्वास मत नहीं हो जाता क्योंकि वह राज्य में राजनीतिक माहौल को खराब करने की कोशिश कर रहे हैं।

रावत ने कहा कि मैं केंद्र सरकार और बीजेपी पर आरोप लगाता हूं कि वे लोग इस राज्य में कब्जा और अशांति की राजनीति कर रहे हैं। मैंने फैसला किया है कि 10 मई के नतीजे के बाद ये सभी ब्लैकमेलर जो खुल्लमखुल्ला लोगों को जाल में फंसाने के लिए धन और अन्य प्रलोभन की पेशकश कर रहे हैं। जो लोगों को ब्लैकमेल करने की कोशिश कर रहे हैं, उनके खिलाफ हम किशोर उपाध्याय के नेतृत्व में एक लड़ाई छेड़ेंगे।

कांग्रेस नेता ने आरोप लगाया कि उनके, उनके रिश्तेदारों और सहयोगियों के फोन टैप किए जा रहे हैं। केंद्रीय एजेंसियां विभिन्न तरीकों से कांग्रेस के लोगों को प्रताड़ित कर रही हैं। उन्होंने कहा कि केंद्रीय एजेंसियों का खुलेआम दुरूपयोग किया जा रहा और न सिर्फ उनके विधायकों बल्कि नेताओं को भी धमकी दी जा रही है।

रावत ने कहा कि उनके विधायकों और नेताओं को धमकी भरे संदेश मिल रहे हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि मैं खुद भी निगरानी में रखा गया हूं जैसे कि मैं कोई राष्ट्र विरोधी हूं।

loading...
शेयर करें