भाजपा को अब देनी होगी विकास के इंजन को रफ़्तार, आसान नहीं होगा ये सफ़र

0

देहरादून। 18 मार्च को त्रिवेद्र सिंह रावत ने उत्तराखंड के नौवें मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ग्रहण की। रावत राज्य में भाजपा के पांचवें मुख्यमंत्री हैं। पार्टी ने उत्तराखंड में अपनी पहली सरकार साल 2000 में बनाई थी, जब उत्तर प्रदेश से अलग होकर यह राज्य बना था। नित्यानंद स्वामी राज्य के पहले मुख्यमंत्री बने थे। वर्ष 2000 में उत्तराखंड की स्थापना इस सोच के साथ हुई थी कि उत्तराखंड जैसे छोटे राज्यों का विकास अच्छे से हो सके।

उत्तराखंड के साथ झारखण्ड व छत्तीसगढ़ जैसे छोटे राज्यों का गठन भी यही सोच कर किया गया था कि ये राज्य आकार में छोटे होने की वजह से विकास के इंजन के तौर पर काम करेंगे और देश के संपूर्ण विकास में अपना योगदान करेंगे, लेकिन तब से उत्तराखंड राजनीतिक स्थिरता की बाट जोह रहा है।

भाजपा

भाजपा को अब साबित करना होगा कि राज्य के लोगों को मिले सुशासन

ऐसी स्थिति में प्रदेश के नए मुख्यमंत्री के लिए यही ताकत भी है और चुनौती भी। भ्रष्टाचार के मुद्दे पर सत्ता में आई भाजपा को अब साबित करना होगा कि राज्य के लोगों को सुशासन मिले। यह इतना आसान नहीं होगा। सरकारी विभागों की जड़ों और राजनीति की रगों में भ्रष्टाचार गहरे तक अभी भी बसा हुआ है।

अगर उत्तराखंड के आर्थिक विकास की बात करें तो भाजपा के सामने यह दूसरी सबसे बड़ी चुनौती है। राज्य पर चढ़े करीब 470 अरब के कर्ज को कम करना व राज्य की आय भी बढ़ाना एक बड़ी चुनौती है। बता दें, साथ ही, राज्य के 21 लाख प्रशिक्षित और अप्रशिक्षित बेरोजगारों को काम देना भी सरकार के लिए आसान नहीं होगा। राज्य सरकार के लिए राज्य से पलायन रोकना भी एक बड़ा मुद्दा है।

सिर्फ इतना ही नहीं, अब राज्य सरकार को राज्य के तमाम शिक्षण संस्थानों पर भी कायदे से ध्यान देना है क्योंकि यहां भी हालत बदतर है। मानव संसाधन से लेकर संसाधनों के मामले में सभी संस्थान बुरे दौर से गुजर रहे हैं। इसके साथ ही शासन के दखल के कारण अच्छे अधिकारी संस्थानों में रुकने को तैयार नहीं हुए। इस मुद्दे पर भी सरकार को ठोस कदम उठाने होंगे।

स्वास्थ्य सेवाओं की स्थिति देखें तो आपदा और हादसों से प्रभावित इलाकों तक में न चिकित्सक हैं और न ही संसाधन। ऐसे में सरकार के लिए राज्य के लोगों को सुलभ और सस्ती स्वास्थ्य सेवाएं मुहैया कराना भी प्राथमिकताओं में शामिल करना होगा। अब अगर भाजपा सरकार और मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत इन चुनौतियों से पार पा गए तो भाजपा के लिए राज्य में एक मजबूत आधार तैयार होगा।

loading...
शेयर करें