अब बच्चों का भी ट्रेन में सफर हुआ महंगा, लगेगा पूरा किराया

0

मुंबई। कुछ समय पहले ही रेलवे द्वारा बच्चो के किराये में बदलाव किया गया था। उस बदलाव से रेलवे को आमदनी हो रही है। रेलवे द्वारा बदलाव के पहले जिन बच्चो की उम्र 5 से 12 साल होती थी उनका ट्रेन में सीट का किराया आधा लगता था। लेकिन रेलवे ने नियमो में कुछ बदलाव कर दिए थे। अब इस उम्र के बच्चो को हाफ टिकेट पर पूरे पैसे चार्ज करने का और सीट ना लेने पर आधे पैसे चार्ज करने का नया नियम 2 महीने पहले लागू किया जा चुका हैं। इस के बाद 2 महीने के अन्दर ही रेलवे को 20 करोड़ का मुनाफ़ा हुआ हैं।

भारतीय रेलवे के इस नए नियम के बाद जहां करोड़ों रूपये का फायदा हुआ है तो वहीं लाखों पैसेंजरों को आसानी से सीट मिल सकी। इससे पहले, 5-12 साल के बच्चों को सिर्फ आधे टिकट चार्ज पर पूरा बर्थ दे दिया जाता था। आकंड़ों के मुताबिक, जब से इस नियम को लागू किया गया है तब से सेंट्रल और वेस्टर्न रेलवे ने अप्रैल से लेकर अब तक 20 करोड़ रूपये कमाए हैं।

भारतीय रेलवे

भारतीय रेलवे का इस बदलाव के पीछे क्या था मुख्य मकसद

भारतीय रेलवे की ओर से किये गए इस बदलाव का मकसद था कि एक साल में करीब 2 करोड़ अतिरिक्त कन्फर्म सीटें अन्य यात्रियों को उपलब्ध कराना था। वो भी सरकार के बिना एक भी पैसा खर्च किए हुए। वैसे, एक मकसद और भी था वो यह कि इस फैसले के बाद पैसे की कमी से जूझते रेलवे को मदद मिलेगी और करीब 525 करोड़ रूपय का सालाना फायदा होगा। साल 2014-15 के दौरान 5 से 12 आयु वर्ग के 2.11 करोड़ बच्चों ने हाफ टिकट लेकर पूरे बर्थ पर यात्रा की थी।

बच्चों के लिए हाफ रेट टिकट अभी भी उपलब्ध है लेकिन बिना सीट के। ऐसे बच्चे जिनके हाफ टिकट लिए गए हैं वो अपने माता-पिता के साथ उनके सीट पर सफर कर सकते हैं। जबकि, पांच साल से कम उम्र के बच्चे बिना किसी चार्ज के रेलवे यात्रा का आनंद ले सकते हैं।

 

loading...
शेयर करें