इसरो का मिशन 22/20 के बारे में क्या आप जानते हैं

0

भारतीय रॉकेटचेन्नई। भारत 22 जून को एकल मिशन के तहत 20 उपग्रह लांच करेगा। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) की ओर से दी गई जानकारी के मुताबिक उस दिन सुबह 9.25 बजे भारतीय रॉकेट ध्रुवीय उपग्रह प्रक्षेपण यान (पीएसएलवी-सी) आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा से 20 उपग्रहों के साथ प्रक्षेपित किया जाएगा।

भारतीय रॉकेट का मुख्य और सबसे वजनी हिस्सा पृथ्वी के अवलोकन के लिए

भारतीय रॉकेट का मुख्य और सबसे वजनी हिस्सा पृथ्वी के अवलोकन के लिए भारत का 725.5 किलोग्राम का काटरेसैट-2 श्रृंखला का उपग्रह है। अन्य 19 उपग्रहों में 560 किलोग्राम के अमेरिका, कनाडा, जर्मनी और इंडोनेशिया के साथ-साथ चेन्नई के सत्यभामा विश्वविद्यालय और पुणे के कॉलेड ऑफ इंजीनियरिंग के दो उपग्रह शामिल हैं।

रॉकेट 1,288 किलोग्राम पेलोड के साथ दूसरे लांच पैड से प्रक्षेपित किया जाएगा। इस पूरे मिशन में तकरीबन 26 मिनट लगेंगे। काटरेसैट उपग्रह से भेजी जाने वाली तस्वीरें काटरेग्राफिक, शहरी, ग्रामीण, तटीय भूमि उपयोग, जल वितरण और अन्य अनुप्रयोगों के लिए मददगार होंगी।

सत्यभामा विश्वविद्यालय का 1.5 किलोग्राम वजनी सत्याभामासैट उपग्रह ग्रीन हाउस गैसों के आंकड़े इकट्ठा करेगा। वहीं, पुणे का एक किलोग्राम का स्वायन उपग्रह हैम रेडियो कम्युनिटी को संदेश भेजेगा।

loading...
शेयर करें