चीन ने अपनाई नई रणनीति, नक्शा जारी कर सीमा इलाके को बताया अपना

0

नई दिल्ली: भारत और चीन के बीच जारी सीमा विवाद में अब एक मोड़ आ गया है। अभी तक जहां चीन भूटानी क्षेत्र डॉकलाम पठार को पर मौखिक रूप से दावा कर रही थी। वहीं अब उसने एक नक्शा जारी कर उस गतिरोध वाली जमीन को अपना क्षेत्र बताया है। इसके अलावा चीन ने भारत-चीन-भूटान त्रिकोणीय जंक्शन पर भी दावा किया है। आपको बता दें कि चीन बराबर आरोप लगा रहा है कि भारत ने उसकी जमीन में दखल दिया है।

भारत और चीन

भारत और चीन के बीच नहीं सुलझ रहा सीमा विवाद

चीन द्वारा ये नक्शा शुक्रवार को जारी किया गया है, जिसमें चीनी त्रिकोणीय जंक्शन को एक तीर द्वारा चिह्नित किया गया है, जो दावा करता है कि यह 1890 में ब्रिटिश-चीन संधि के अंतर्गत है। आपको बता दें कि पिछले चार दिनों से सिक्किम से सटे चीन के बॉर्डर पर भारी तनाव फैला हुआ है। सीमा पर दोनों देशों के जवान एक-दूसरे पर निशाना साधे हुए हैं।

यह भी पढ़ें: मोदी सरकार के अल्टीमेटम पर नरम पड़ा चीन, बातचीत को तैयार

भारत और चीन के बीच जारी यह विवाद उस वक्त शुरू हुआ जब सिक्किम के डोंगलांग में भारतीय सैनिकों ने चीन की ओर से बनवाई जा रही सड़क का विरोध किया था। भारतीय जवानों द्वारा किये गए इस विरोध के बाद चीनी सेना ने भारत के दो बंकरों पर हमला बोल दिया और उसे तोड़ दिया।

आपको बता दें कि भारत और चीन के बीच 3,488 किलोमीटर लंबी सीमा है जो जम्मू-कश्मीर से लेकर अरूणाचल प्रदेश तक है। इसमें 220 किलोमीटर का हिस्सा सिक्किम में पड़ता है। चूंकी इस इलाके में बॉर्डर लाइन पूरी तरह स्पष्ट नहीं है इसलिए यहां सीमा का कोई स्पष्ट आधार नहीं है।

बीते दिन भारत की सत्तारूढ़ मोदी सरकार ने चीन के खिलाफ सख्त रुख अख्तियार करते हुए कहा था कि सन् 1962 और साल 2017 के भारत में काफी फर्क है। इसलिए भारत को कमजोर समझने की गलती न करे। हालांकि इसके बाद चीन की ओर से नरम रवैया देखने को मिला था

विदेश मंत्रालय की ओर से जारी बयान में कहा गया था कि वह भारत के साथ बातचीत के लिए तैयार है। चीन ने कहा कि सीमा विवाद पर ‘सार्थक संवाद’ एक ‘महत्वपूर्ण मुद्दा’ है। हालांकि अब चीन ने नक्शा जारी कर इस विवाद की चिंगारी को एक नई हवा दे दी है।

loading...
शेयर करें