भारत, माली आतंवाद से मुकाबले के लिए सहयोग करेंगे

0

नई दिल्ली।  विदेश मंत्रालय ने शनिवार को कहा कि भारत तथा माली ने आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में हर स्तर पर सहयोग करने को लेकर सहमति जताई है। विदेश राज्य मंत्री एम.जे.अकबर के दो-तीन मार्च के माली के दौरे के बाद विदेश मंत्रालय ने जारी एक बयान में कहा, “दोनों पक्षों ने आतंकवाद को शांति तथा समृद्धि के लिए एक गंभीर खतरे के रूप में चिन्हित किया है और इस खतरे से निपटने के लिए द्विपक्षीय, क्षेत्रीय तथा बहुपक्षीय स्तरों पर सहयोग की सहमति जताई है।”

भारत तथा माली

भारत तथा माली ने हर स्तर पर सहयोग की सहमति जताई

बयान के मुताबिक, “दोनों पक्षों ने संयुक्त राष्ट्र में सुधार, विकास संबंधी मुद्दे, दक्षिण-दक्षिण सहयोग तथा नवीकरणीय ऊर्जा को बढ़ावा देने से संबंधित समान हितों के मुद्दों पर विचारों का आदान-प्रदान किया।”माली के दौरे के दौरान विदेश राज्य मंत्री एम.जे.अकबर ने दोनों देशों के बीच माली के विदेश मंत्री अब्दुल्ला दियोप के साथ संयुक्त आयोग बैठक (जेसीएम) की पहली बैठक की संयुक्त अध्यक्षता की। बयान में कहा गया, “सौहार्दपूर्ण माहौल में हुई चर्चा के दौरान कृषि, ऊर्जा सहित विभिन्न क्षेत्रों में भारत तथा माली के बीच द्विपक्षीय संबंधों की समीक्षा की गई और भविष्य में सहयोग के क्षेत्रों खासकर सुरक्षा तथा प्रौद्योगिकी पर प्रकाश डाला गया।”

विदेश मंत्रालय के बयान के मुताबिक, “दोनो पक्षों ने द्विपक्षीय संबंधों के प्रगाढ़ होने तथा उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी के सितंबर 2016 में माली दौरे के बाद के नतीजों के क्रियान्वयन में मिली उपलब्धि पर संतुष्टि जताई।” अकबर ने माली की भौगोलिक तथा वैचारिक अखंडता के प्रति भारत की प्रतिबद्धता दोहराई और संप्रभुता व क्षेत्रीय अखंडता में भारत के समर्थन का भरोसा दिलाया।टिंबकटु विश्व विरासत स्थल के पुनर्निर्माण को लेकर पांच लाख डॉलर की आर्थिक सहायता के लिए दियोप ने भारत का शुक्रिया अदा किया।

भारत ताजमहल मीट्स टिंबकटू’ की मेजबानी करेगा

भारत इस साल के अंत में टिंबकटु पांडुलिपियों की सबसे बड़ी प्रदर्शनी ‘व्हेन ताजमहल मीट्स टिंबकटू’ की मेजबानी करेगा। दोनों देशों ने आतंकवाद को शांति व समृद्धि के लिए सबसे बड़े खतरे के रूप में चिन्हित किया और इससे निपटने के लिए द्विपक्षीय, क्षेत्रीय तथा बहुपक्षीय स्तर पर सहयोग के लिए सहमति जताई। दोनों पक्षों ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में सुधार, विकास संबंधी मुद्दे, दक्षिण-दक्षिण सहयोग तथा नवीकरणीय ऊर्जा को बढ़ावा देने से संबंधित समान हितों के मुद्दों पर विचारों का आदान-प्रदान किया। मंत्रालय ने बयान में कहा, “विदेश राज्य मंत्री एम.जे.अकबर इस दौरे के बाद माली, भारत का एक उच्चस्तरीय दौरा करेगा। इसमें माली के संस्कृति मंत्री और निवेश बढ़ावा तथा निजी क्षेत्र मामलों के मंत्रियों का दौरा भी शामिल है।”

loading...
शेयर करें