फोरेंसिक जांच में सही निकला #JNU का वीडियो

0

नई दिल्ली। ये खबर कन्हैया कुमार की मुश्किल बड़ा सकती है। 9 फरवरी को जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय यानी जेएनयू में भारत विरोधी नारेबाजी की 4 वीडियो क्लिप जांच में बिलकुल सही पाई गई हैं। फोरेंसिक जांच में साफ हो गया है कि ये क्लिप्स सही थी। हालांकि कुछ चैनल्स ने जो क्लिप प्रसारित की उसके बारे में अभी रिपोर्ट नहीं आई है।

भारत विरोधी नारेबाजी
फाइल फोटो

भारत विरोधी नारेबाजी की 4 क्लिप बिलकुल सही

दिल्ली पुलिस के एसीपी अरविन्द दीप का कहना है कि हमको गांधीनगर की फोरेंसिक लैब से 4 क्लिप की रिपोर्ट मिली है। इसमें इन क्लिप्स को सही बताया गया है। कुछ अन्य वीडियो फुटेज की जांच अभी की जा रही है।

उन्होंने कहा कि ये क्लिप वो नहीं है जो कि हिन्दी चैनल द्वारा प्रसारित की गई। इन क्लिप को जेएनयू के गार्ड और कुछ छात्रों ने अपने मोबाइल फोन्स से शूट किया था। 9 फरवरी के दिन जिस वक्त कैंपस में भारत विरोधी नारेबाजी की जा रही थी उस समय ये लोग वहां मौजूद थे।

टीवी चैनल पर दिखाई गई फुटेज के बारे में लैब चैनल के कैमरा, स्टोरेज डिवाइस और दूसरे उपकरणों की जांच कर रही है। ये रिपोर्ट भी एक हफ्ते के अंदर आ जाएगी।

क्लिप देखकर पकड़े जाएंगे अब देशद्रोही

एसीपी अरविन्द दीप ने कहा कि कैंपस में भारत विरोधी नारेबाजी करने वाले छात्रों की पहचान अब इन क्लिप के जरिए की जाएगी। अब इन क्लिप्स पर फोरेंसिक टीम की मुहर भी लग चुकी है।

गौरतलब है कि जेएनयू कैंपस में 9 फरवरी को संसद भवन पर हमला करने वाले आतंकवादी अफजल गुरु की बरसी पर एक कार्यक्रम का आयोजन किया गया था। इसी कार्यक्रम के दौरान छात्रों ने भारत विरोधी नारेबाजी की थी। पुलिस ने इस मामले में जेएनयू छात्रसंघ के अध्यक्ष कन्हैया कुमार और दो अन्य छात्रों के खिलाफ देश द्रोह का केस दर्ज किया था। बाद में इन सभी को गिरफ्तार करके अंतरिम जमानत पर छोड़ दिया गया था।

 

loading...
शेयर करें