भालू से जंग के वो बीस मिनट

0

कोटद्वार। हौसला और इरादा मजबूत हो तो व्यक्ति किसी से भी कैसी ही और कोई भी जंग जीत सकता है। कुछ ऐसा ही एक बार फिर उत्तराखंड में देखने को मिला। बुजुर्ग आनंदी देवी के साहस की चर्चायें पौड़ी के द्वारीखाल प्रखंड के हर व्यक्ति की जुबान पर हैं। आनंदी देवी की भालू से जंग हुई और ये जंग करीब 20 मिनट तक चली। भालू से जंग में बुजुर्ग ने भालू को न सिर्फ भागने पर मजबूर किया, बल्कि गंभीर रूप से घायल हालत में गांव तक भी पहुंची। बाद में ग्रामीणों ने आनंदी देवी को राजकीय संयुक्त चिकित्सालय में इलाज के लिये भर्ती कराया।

ये भी पढ़ें – महिला की बहादुरी के आगे भालू हुआ पस्त 

भालू से जंग 2

भालू से जंग में बुजुर्ग महिला गंभीर घायल

पौड़ी जनपद के प्रखंड द्वारीखाल के अंतर्गत ग्राम दिउसा निवासी आनंदी देवी (63 वर्ष) अन्य दिनों की ही तरह गांव से कुछ दूर खेतों में लकड़ियां बीनने गयी थीं। इसी दौरान अचानक एक भालू ने आनंदी देवी पर हमला बोल दिया। भालू के अप्रत्याशित हमले से आनंदी देवी घबराई नहीं और उससे भिड़ गयीं। प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक आनंदी देवी की करीब बीस मिनट तक भालू से जंग हुई।

ये भी पढ़ें – तगड़ी भिड़ंत में महिला ने भालू को खदेड़ा

भालू से जंग 4

इस जंग के दौरान भालू ने आनंदी देवी के चेहरे और सिर पर गंभीर घाव भी कर दिए, लेकिन इस बुजुर्ग महिला ने हिम्मत नहीं हारी और भालू का मुकाबला करती रहीं। मौके पर मौजूद कुछ महिलाओं ने शोर भी मचाया, लेकिन भालू आनंदी देवी पर लगातार हमले करता रहा। दोनों के बीच करीब 20 मिनट तक संघर्ष हुआ जिसके बाद भालू जंगल की ओर भाग गया। भालू के जंगल में जाने के बाद गंभीर रुप से घायल आनंदी देवी खुद ही खड़ी हुईं और गांव तक पहुंची। बाद में ग्रामीणों ने आनंदी देवी को ‘108‘ की मदद से कोटद्वार के राजकीय संयुक्त चिकित्सालय में पहुंचाया जहां उनका उपचार चल रहा है। इलाज कर रहे चिकित्सकों ने आनंदी देवी की स्थिति नाजुक बतायी है।

loading...
शेयर करें