भोजशाला में कड़ी सुरक्षा के बीच शुरू हुआ हवन

0

नई दिल्ली। मध्‍य प्रदेश में धार के भोजशाला में हवन शुरु हो चुका है। हवन कार्यक्रम को लेकर प्रशासन ने पूरे इलाके को छावनी में बदल दिया है। वहीं मध्‍य प्रदेश प्रशासन का कहना है कि दोपहर तक हवन चलेगा उसके बाद मुस्लिम लोग जुम्‍मे की नमाज पढ़ेंगे।

भोजशाला

भोजशाला में यज्ञ के बाद होगी पूर्ण आहुति

भोजशाला में पूजा को लेकर हिंदू संगठनों ने कहा है कि यज्ञ पूर्ण आहुति के बाद ही संपन्न होता है, लिहाजा यज्ञ बिना किसी विघ्न के संपन्न होना चाहिए और वो पूर्ण आहुति के बाद ही उठेंगे। हिंदू संगठनों ने यज्ञशाला के बाहर विधि विधान से हवन करना शुरू भी कर दिया है।

प्रशासन के सामने चुनौती

इससे पहले गुरुवार शाम तक हिंदू संगठन इस बात पर अड़े थे कि परिसर के भीतर यज्ञ होगा और अखंड होगा। वहीं, एडीजी और कमिश्नर ने साफ कर दिया था कि पूजा और नमाज दोनों साथ-साथ होगी। अब यज्ञ तो शुरू हो चुका है मगर प्रशासन के सामने नमाज के लिए उन्हें मनाने की चुनौती होगी।

जानिए, क्या है विवाद

धार की भोजशाला असल में भारतीय पुरातत्व संरक्षण विभाग (एएसआई) के अधीन एक ऐसा स्मारक है, जिस पर हिंदू और मुसलमान दोनों अपना दावा जताते रहे हैं। हिंदू इसे सरस्वती मां का मंदिर बताते हैं और मुसलमान कमाल मौला मस्जिद। लिहाजा एएसआई ने आदेश निकाला कि दोपहर 1 बजे से 3 बजे तक नमाज़ होगी और सूर्योदय से दोपहर 12 बजे व फिर 3.30 बजे से सूर्यास्त तक पूजा की अनुमति रहेगी।

हर मंगलवार को होती है पूजा

आम दिनों में भोजशाला में हर मंगलवार पूजा की अनुमति है और हर जुमे को नमाज़़ की। बाकी दिनों में सभी के लिए भोजशाला खुली रहती है। बीते एक माह से धार व आसपास के इलाके में तनाव की स्थिति बनती रही है, क्योंकि दोनों ही समुदाय के लोग परस्पर समझौते पर नहीं पहुंच पाए।

loading...
शेयर करें