महात्मा गांधी की 68वीं पुण्यतिथि के दिन गोडसे पर लिखी किताब के विमोचन पर विवाद

0

महात्मा गांधीनई दिल्ली। आज महात्मा गांधी की 68वीं पुण्यतिथि है। आज ही के दिन 1948 में नाथूराम गोडसे ने गोली मारकर उनकी हत्या कर दी थी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस दिन उन सभी शहीदों को याद किया है, जिन्होंने देश के लिए अपने प्राण न्यौछावर कर दिए। मोदी ने देश से सुबह 11 बजे शहीदों की याद में मौन रखने की अपील भी की है।

महात्मा गांधी की पुण्यतिथि के दिन किताब का विमोचन

राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की पुण्यतिथि (30 जनवरी) के दिन उनके हत्यारे नाथूराम गोड्से पर आधारित पुस्तक के विमोचन के कार्यक्रम को लेकर विवाद शुरू हो गया है। शनिवार को गांधी की पुण्यतिथि के मौके पर उनके हत्यारे नाथूराम गोडसे पर लिखी पुस्तक का विमोचन किया जाना है।

दरअसल अनूप अशोक सरदेसाई की ‘नाथूराम गोडसे- एक हत्यारे की कहानी’ नामक पुस्तक का विमोचन कार्यक्रम मडगांव स्थित सरकारी रवींद्र भवन में रखा गया था और बताया जा रहा है कि पुस्तक का विमोचन बीजेपी नेता और भवन के अध्यक्ष दामोदर नाइक के हाथों होना है। भाजपा नेता दामोदर नाइक इस भवन के अध्यक्ष भी हैं।

गोवा फारवर्ड पार्टी के महासचिव मोहनदास लोलिएंकर के अनुसार, इस तरह के देश विरोधी काम के लिए सरकारी परिसर का इस्तेमाल रोका जाना चाहिए। अगर सरकार ने नाथूराम गोडसे पर आधारित पुस्तक के विमोचन कार्यक्रम को नहीं रोका तो हम सत्याग्रह करेंगे। उन्होंने दावा किया कि उनके इस कार्यक्रम को निर्दलीय विधायक विजय सरदेसाई समेत कई अन्य संगठनों का समर्थन हासिल है। फारवर्ड पार्टी के नेता ने कहा कि उनके कार्यकर्ता आयोजन स्थल की ओर जाने वाले सभी रास्तों को जाम कर देंगे ताकि कोई भी शख्स विमोचन कार्यक्रम में शामिल न हो पाए।

वहीं ‘नाथूराम गोडसे – दि स्टोरी ऑफ ऐन असैसिन’ नाम की किताब लिखने वाले अनूप सरदेसाई ने कहा कि वह किसी और जगह पर किताब का विमोचन कार्यक्रम आयोजित करेंगे। सरदेसाई ने कहा, ‘मुझे रविंद्र भवन से एक ई-मेल प्राप्त हुआ, जिसमें कहा गया था कि विशेष परिस्थितियों के कारण जगह का इस्तेमाल पुस्तक विमोचन के लिए नहीं करने दिया जाएगा।’ उन्होंने कहा कि वह किसी और जगह पर किताब का विमोचन कार्यक्रम आयोजित करेंगे।

loading...
शेयर करें