महालक्ष्मी मंदिर में पूजा करने पर तृप्ति देसाई की भक्तों ने की पिटाई, हालत गंभीर

0

महालक्ष्मी मंदिरनई दिल्ली। महाराष्ट्र के कोल्‍हापुर में महालक्ष्मी मंदिर में पूजा करने पहुंची भूमाता ब्रिगेड की अध्यक्ष तृप्ति देसाई को कई लोगों ने बुरी तरह पीट दिया। पिटाई के दौरान तृप्ति पर हल्दी, कुमकुम के साथ मिर्ची पाउडर भी फेंका गया। पुलिस ने काफी मशक्कत के बाद तृप्ति को लोगों के चंगुल से बाहर निकाला। कोल्हापुर के एक निजी हॉस्पिटल में तृप्ति का इलाज चल रहा है। उनकी हालत गंभीर बताई जा रही है।

महालक्ष्मी मंदिर में करना चाहती थीं पूजा

भूमाता ब्रिगेड की अध्‍यक्ष तृप्ति देसाई बुधवार शाम को 50 महिलाओं के साथ कोल्हापुर में महालक्ष्मी मंदिर दर्शन करने पहुंची थीं। लेकिन यहां की पुलिस ने कानून व्यवस्था के मद्देनजर उन्हें रोक लिया। उसी दौरान समर्थकों ने जोरदार नारे बाजी शुरु की जिसके बाद तृप्ति समेत सबको हिरासत में ले लिया गया। शाम को तृप्ति देसाई को पुलिस की निगरानी में मंदिर के गर्भगृह में दर्शन के लिए ले जाया गया। इसी दौरान मंदिर में जाते समय हिंदुत्ववादी कार्यकर्ता और स्थानीय लोगों ने तृप्ति के साथ अभद्र भाषा का इस्तेमाल कर उन पर हमला करने की कोशिश भी की। पुलिस ने तृप्ति को मंदिर गर्भगृह के पास लाई। लेकिन वहां पर पुजारी और अन्य महिलाओं ने उसे गर्भगृह में जाने की इजाजत नहीं दी।

तृप्ति देसाई और मंदिर में मौजूद लोगों के बीच करीब आधे घंटे तक झड़प हुई। इसी दौरान पुलिस ने पुजारी महिलाओं को जबरन हटाकर तृप्ति को गर्भगृह में प्रवेश करवा दिया। गर्भगृह मे प्रवेश होने के बाद पुलिस की कड़ी निगरानी होते हुए भी तृप्ति को लोगों ने बुरी तरह से पीटा और उसपर हल्दी, कुमकुम और मिर्च पाउडर भी फेंका। इस झड़प में तृप्ति बुरी तरह से घायल हो गईं। लोगों का गुस्सा देखकर पुलिस ने तृप्ति को तुरंत मंदिर से बाहर निकाला। वहां से पुलिस तृप्ति को सीधे शहर के निजी अस्पताल ले गई। डॉक्टरों के मुताबिक तृप्ति देसाई के शरीर पर चोट के निशान हैं।

महालक्ष्मी मंदिर के पुजारियों ने तृप्ति देसाई को मंदिर के गर्भगृह में प्रवेश कराने के कारण पुलिस और प्रशासन की निंदा की। पु‍जारियों ने कहा कि तृप्ति देसाई को गर्भगृह में प्रवेश करने देने का कोर्ट की तरफ से कोई ऑर्डर नहीं है। कोर्ट ने ऐसा कोई भी आदेश जारी नहीं किया है, उसके बावजूद पुलिस ने तृप्ति देसाई को गर्भगृह में प्रवेश करवाया।

loading...
शेयर करें