#IPL10 : धोनी के नाम हुआ एक और रिकॉर्ड, 7वीं बार खेलने जा रहे हैं फाइनल

0

नई दिल्ली। आईपीएल सीजन 10 अब अपने अंतिम चरण में है। आईपीएल में पहली बार जहां राइजिंग पुणे सुपरजाइंट फाइनल में पहुंची है। वहीं, इसके साथ पुणे के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने इस सीजन कई रिकॉर्ड अपने नाम कर लिए हैं। एक तरफ रविवार को किंग्स इलेवन पंजाब को हराने के बाद धोनी आईपीएल के प्लेऑफ में 9वीं बार पहुंचने वाले खिलाड़ी बन गए। वहीं, मंगलवार को मुंबई इंडियंस को मात देकर धोनी आईपीएल में सबसे ज्यादा फाइनल मैचों में पहुंचने वाले प्लेयर बन गए हैं।

महेंद्र सिंह धोनी

महेंद्र सिंह धोनी पुणे से पहले चेन्नई को फाइनल्स तक पहुंचा चुके हैं

बताते चलें, धोनी इससे पहले बतौर कप्तान खेल रहे थे लेकिन इस सीजन उन्हें कप्तानी नहीं दी गई। यहीं नहीं, धोनी आईपीएल के 10 साल के इतिहास में 7वीं बार फाइनल्स खेलने जा रहे हैं। धोनी राइजिंग पुणे सुपरजाइंट से पहले चेन्नई सुपरकिंग्स के लिए खेलते थे।

धोनी ने चेन्नई के लिए कप्तानी भी की है। सबसे पहली बार धोनी ने चेन्नई को 2008 में आईपीएल सीजन 2 के फाइनल में पहुंचाया था। यह मैच चेन्नई ने राजस्थान रॉयल्स के खिलाफ खेला था। हालांकि चेन्नई यह मैच हार गई थी।

आईपीएल सीजन 2 के फाइनल तक पहुंचने के बाद चेन्नई दूसरी बार 2010 में आईपीएल के फाइनल में पहुंची थी। यहां उसका मुकाबला मुंबई इंडियन्स से हुआ। इस मैच में चेन्नई ने मुंबई को 169 रन का टारगेट दिया था। चेन्नई सुपरकिंग्स का यह पहला मैच था जो चेन्नई जीती थी। इस मैच में मुंबई 146 रन बनाकर ढेर हो गई थी।

धोनी की अगुवाई में चेन्नई का सफ़र यही नहीं रुका। चेन्नई आईपीएल 2011 के फाइनल में भी पहुंची थी। इसमें चेन्नई का सामना रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु से हुआ था। चेन्नई ने यह मुकाबला भी जीतते हुए आईपीएल 2011 भी अपने नाम किया था।

साल 2012 में चेन्नई लगातार तीसरी बार आईपीएल फाइनल में पहुंची। यहां उसका मुकाबला कोलकाता नाइटराइडर्स से हुआ लेकिन कोलकाता ने इस बार चेन्नई सुपरकिंग्स रोकते हुए आईपीएल 2012 का ख़िताब अपने नाम कर लिया।

साल 2012 में कोलकाता नाइटराइडर्स से हारते हुए चेन्नई एक बार फिर साल 2013 के फाइनल्स में पहुंची। यहां इस बार चेन्नई का मुकाबला मुंबई इंडियन्स से था। यह मुकाबला मुंबई ने अपने नाम किया था। साल 2015 के फाइनल में चेन्नई का मुकाबला एक बार फिर मुंबई इंडियन्स से हुआ। यह सीजन भी मुंबई ने अपने नाम किया था।

loading...
शेयर करें