माओ की प्रतिमा ढहाई गई

0

बीजिंग। माओवाद के जनक और चीन में कम्युनिस्ट पार्टी के संस्थापक माओ त्से तुंग की विशाल प्रतिमा को स्थापित किए जाने के कुछ दिनों बाद ही तोड़ दिया गया है। माना जा रहा है कि इस प्रतिमा की स्थापना को लेकर सरकार की स्वीकृति नहीं ली गई थी। माना जा रहा है कि माओ के समर्थकों ने इसे लगाने का फैसला किया था, जो सरकार को पसंद नहीं आया|

mao1

यह प्रतिमा चीन  के हेनान प्रांत में केफेंग के निकट तोंगसू काउंटी में स्थापित की गई थी। 37 मीटर उंची यह प्रतिमा रोड़ी और इस्पात से बनी थी। इसके ऊपर सुनहरा पेंट चढ़ा था और इस पर 4।6 लाख डॉलर की लागत आई थी। खाली खेत में माओ के बैठने की मुद्रा वाली इस विशालकाय प्रतिमा ने इस सप्ताह पूरी दुनिया में सुर्खियां बटोरी थी। समाचार पोर्टल ‘पीपुल्स नेट’ ने स्थानीय अधिकारियों के हवाले से खबर दी है कि पंजीकरण और स्वीकृति नहीं होने के कारण प्रतिमा गिराई गई है।क्षतिग्रस्त प्रतिमा की तस्वीरें सोशल मीडिया में पोस्ट की गई हैं। खबर है कि इस प्रतिमा की स्थापना के लिए धन किसानों और स्थानीय उद्यमियों द्वारा दिया गया था। प्रतिमा निर्माण के समय ही पूरी दुनिया में चर्चा में आ गई थी. इसका काम बीते महीने में ही पूरा हुआ था|

माओ कौन थे

-माओ आधुनिक चीन के संस्थापक कहे जाते हैं|

-1949 में हुए रेवोल्यूसन के बाद उन्होंने कम्युनिस्ट पार्टी बनाई|

-माओ करीब तीन दशक तक सत्ता में रहे|

-आरोप है कि उन्होंने चीन में कल्चरल रेवोल्यूसन के दौरान लाखों लोगों को मरवा दिया था

-माओ के कार्यकाल में गरीबी डर काफी बढ़ गई थी|

-1976 के बाद चीन ने माओ की आईडियालोजी से किनारा किया और बड़े पैमाने पर आर्थिक सुधार किये|

-माओ के बाद डेंग जिआओ पिंग सत्ता में आये|

-उनके चलते देश बड़ी आर्थिक शक्ति बनकर उभरा

-26 दिसंबर 1893 को जन्मे माओ की 09 सितम्बर 19 76 को निधन हो गया|

loading...
शेयर करें