मायावती बोली, अपनी कौम के लिए गद्दार हैं ‘मुसलमान’

1

मायावतीएटा। पिछले दिनों बसपा सुप्रीमो मायावती ने कहा था कि अगर मुसलमान इस बार गद्दारी न करें तो बसपा की पूर्ण बहुमत से उत्तर प्रदेश में सरकार बनेगी। गैर मुस्लिमों के लिए मुसलमान न गद्दार था, न है और न कभी होगा? मुसलमान तो गद्दार अपनी कौम के लिए था, है और रहेगा।

मायावती ने मुसलमान को कहा गद्दार

मायावती ने कहा कि मुसलमान तो कुत्ते की तरह है। अपने मालिक के साथ कभी गद्दारी नही करता, लेकिन अपनी कौमके साथ कभी वफादार नही रहता। मिसाल के तौर पर बता दें कि एक मौहल्ले का कुत्ता जब दूसरे मौहल्ले में पहुँचता है तो उस मौहल्ले के सारे कुत्ते इकठ्ठा होकर दूसरे मोहल्ले से आये कुत्ते को अपनी सरहद सेबाहर पहुँचाने की पुरजोर कोशिश करते हैं और कामयाब भी हो जाते हैं।

इस बार यूपी विधानसभा चुनाव में कुछ ऐसा ही नजारा देखने को मिलेगा।इतिहास गवाह है मुसलमानों ने जिस पार्टी के पक्ष में 60 प्रतिशत मतदान किया है। यूपी में उसी पार्टी की सरकार बनी है। कभी यादव+मुसलमान=सपा सरकार और कभी दलित+मुसलमान=बसपा सरकार, लेकिन कभीऐसा नही हुआ कि मुसलमान+दलित या मुसलमान+यादव= मुस्लिम मुख्यमंत्री नही बना हो?

मुस्लिम वोट लेकर खानापूर्ति के लिए मुस्लिम विधायकों को मंत्री बनाया जाता रहा है। मुख्य पॉवर तो मुख्यमंत्री के पास ही रहती है। अब तब किसी सरकार में कोई मुसलमान गृह मंत्री बना?मुसलमानों की राजनैतिक गद्दारी और वफादारी को लेकर दलित एवं यादव समुदाय के बातचीत की गई तो हर सवाल का जबाव उल्लू सीधा करने वाला था।

अब तुम मुसलमानों कब तक उल्लू बनते रहोगे? तुम्हारे दम पर एक दलित मुख्यमंत्री बन सकती हैं और दो यादव मुख्यमंत्री बन सकते हैं। आखिर मुस्लिम मुख्यमंत्री क्यों नही बन सकता। जबकि मुसलमान दलित एवं यादव समुदाय से दो गुना से ज्यादा तादाद में हैं।

2012 में सपा की आंधी और 2014 में मोदी लहर ने सभी राजनैतिक दलों के किले ध्वस्त कर दिए। अब 2017 में तूफान आना चाहिए। इस तूफान को लाने के लिए यूपी के मुसलमानों को सिर्फ एक मुस्लिम दल का दामन थामना पड़ेगा। उस मुस्लिम दल का प्रत्याशी हारे या जीते वोट उसी को दिया जाये। अगर यूपी के मुसलमानों के ऐसा कर दिया तो इस बार न सही तो अगली बार 100 प्रतिशत यूपी का मुख्यमंत्री मुसलमान ही होगा। अगर यूपी के मुसलमान ऐसा करने में कामयाब नही हुए तो फिर जिंदगी भर इसी तरह गद्दारी की तोहमतें लगती रहेंगी?

(साभार से delhiuplive.com)

loading...
शेयर करें

1 टिप्पणी