ये है दुनिया की TOP 10 खतरनाक मिसाइल्स, इनसे डरते हैं बड़े-बड़े देश

नई दिल्ली। देश की सुरक्षा के लिए हर देश नई-नई टेक्नोलॉजी लैस हथियार, टैंक, फाइटर प्लेन्स का निर्माण करता है। इसी कड़ी में मिसाइल्स भी देश की सुरक्षा के लिए बड़ी अहम भूमिका निभातीं हैं। दुनिया में कई ऐसी मिसाइल्स है जो किसी भी देश को मिन्टों में नस्तेनाबूत करने में सक्षम हैं। आइए जानतें हैं ऐसे ही कुछ मानव विनाशक मिसाइल्स के बारे में।

मिसाइल्स

मिसाइल्स जिसने दुनिया को दहलाकर रख दिया

एलजीएम-30 माइन्यूटमैनः  

इस मिसाइल की मारक क्षमता 13,000 km हैं। माइन्यूट मैन अमेरिका की सबसे सक्षम मिसाइलों में से एक है और ये एक साथ 3 परमाणु हथियारों को ले जाने में सक्षम है। यह मिसाइल एक बार तीन अलग अलग लक्ष्यों पर निशाना साध सकती है। अमेरिकी सेना ने इसे ट्राइडेंट मिसाइल सिस्टम से लैस करके दुनिया की सबसे मारक मिसाइल बना दिया है। फिलहाल ये अमेरिकी सेना में शामिल इकलौती अंतरमहाद्वीपीय मिसाइल है।

आर-36:

रूस की सबसे ताकतवर मिसाइल का नाम आर-36 है।  इस मिसाइल के दम पर सोवियत रूस ने अमेरिका पर बढ़त बना ली थी। एक साथ या मिसाइल 10 से ज्यादा ठिकानों पर निशाना साधने में सक्षम है। इसे शुरुआत में अंतरिक्ष कार्यक्रमों के लिए बनाया गया था, लेकिन बाद में मारक मिसाइल में तब्दील कर दिया गया। ये रूस की स्ट्राइक मिसाइलों में से एक है। ये मिसाइल 10 हजार 200 किलोमीटर से 16 हजार किलोमीटर तक मार कर सकती है।

डोंगफेंग-41:

चीन की डीएफ-41 दुनिया की सबसे सक्षम मिसाइलों में से एक है। ये परमाणु हथियारों को ढोने में तो सक्षम है ही, साथ ही किसी भी जगह से इसे छोड़ा जा सकता है। ये दुनिया में सबसे लंबी दूरी तक मार करने वाली मिसाइल है, जिसकी रेंज लगभग 14 हजार किमी है।

जीएम-109 टॉमहॉक:

बीजीएम-109 टॉमहॉक अमेरिका के सबसे खास हथियारों में से एक है। ये मध्यम से लंबी दूरी तक मार करने की सबसे खतरनाक मिसाइल है। टॉम हॉक 1500 किलोमीटर की दूरी से अपना लक्ष्य साध कर हमला करती है। अमेरिका इन मिसाइलों के इस्तेमाल से दुनिया के सबसे खतरनाक आतंकी संगठन आईएसआईएस को पछाड़ने में लगा हुआ है।

यूजीएम-133 (ट्राइडेंट II):  

अमेरिकी हथियार डोंगफेंग से इतर ये मिसाइल पनडुब्बियों पर भी तैनात हैं, जिनकी जद में पूरी दुनिया है। अमेरिकी हथियार निर्माता कंपनी लॉकहीड मार्टिन की ओर से विकसित की गईं ये बैलिस्टिक मिसाइल पानी से भी छोड़ी जा सकती हैं। डोंगफेंग से इतर ये मिसाइल पनडुब्बियों पर भी तैनात हैं, जिनकी जद में पूरी दुनिया है। इस मिसाइल का इस्तेमाल सिर्फ अमेरिका और ब्रिटेन की रॉयल नेवी करती है। परमाणु हथियारों से लैस ये मिसाइल एक साथ कई लक्ष्यों को भेदने में सक्षम है। ये पानी के अंदर से भी दागी जा सकती हैं, जिसके दम पर ये अमेरिकी सेना की स्ट्राइक करने वाली मिसाइलों में से एक है। 1983 में विकसित इस मिसाइल को अमेरिकी और ब्रिटिश सेना 1990 से इस्तेमाल कर रहे हैं, जिनकी मारक क्षमता 7840 किलोमीटर तक है।

आईरिस-टी:

आईरिस-टी नई जेनरेशन की सबसे मारक मिसाइल है। इसकी क्षमता महज 25 किमी तक ही मार करने की है, लेकिन लेजर गाइडेड तकनीक के दम पर ये 100 फीसदी लक्ष्य को भेदती है। इस मिसाइल को जर्मन मूल की डायल कंपनी ने कई देशों जैसे ग्रीस, इटली, कनाडा, नॉर्वे और स्पेन के सहयोग से बनाया है। इस मिसाइल को दुनिया के सबसे खतरनाक लड़ाकू विमानों यूरोफाइटर टाइफून, एफ-16, टॉर्नेडो पर तैनात किया गया है।

अग्नि 5:

अग्नि 5 मिसाइल भारत की सबसे दूर तक मार करने वाली मिसाइल है। ये परमाणु हथियारों को ले जाने में सक्षम होने के साथ ही एक साथ कई लक्ष्यों को भेदने में भी सक्षम है। अप्रैल 2012 को अग्नि 5 का परीक्षण किया गया, इसकी जद में पूरा चीन आ जाता है। इसकी रेंज 5 हजार 500 किलोमीटर है, जिसे 7 हजार किलोमीटर तक बढ़ाया जा सकता है।

एआईएम-120 (एम्राम):

एआईएम-120(एडवांस्ड मीडियम रेंज एयर टू एयर मिसाइल-एम्राम) को रेथियाम (अमेरिकी कंपनी) ने बनाया है। इसने इराक, बोस्निया और कोसोवो में अपनी उपयोगिता सिद्ध की है। इस मिसाइल का इस्तेमाल दुनिया के 36 देश कर रहे हैं। ये लगभग सभी लड़ाकू विमानों जैसे एफ-22, यूरोफाइटर टाइफून, एफ-15, एफ-16, सी-हैरियर, टोरनेडो में फिट होती है और पलक झपकते ही लक्ष्य को तहस नहस कर देती है।

आईरिस-टी:

आईरिस-टी नई जेनरेशन की सबसे मारक मिसाइल है। इसकी क्षमता महज 25 किमी तक ही मार करने की है, लेकिन लेजर गाइडेड तकनीक के दम पर ये 100 फीसदी लक्ष्य को भेदती है।

ब्रह्मोस:

इस मिसाइल की मारक क्षमता 290 किमी है.  सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल की श्रेणी में दुनिया की उन गिनी चुनी मिसाइलों में से एक है, जिसे जल, थल, वायु कहीं से भी दागा जा सकता है। ब्रह्मोस की तैनाती भारतीय सेना की तीनों सेनाओं में है।

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Time limit is exhausted. Please reload the CAPTCHA.