माफिया डॉन ने डाली मुलायम परिवार में फूट, नाराज अखिलेश ने सारे कार्यक्रम रद्द किये

0

लखनऊ। सपा मुखिया मुलायम सिंह यादव के परिवार में माफिया डॉन मुख्तार अंसारी ने फूट डाल दी है। मुख़्तार अंसारी की पार्टी कौमी एकता दल के सपा में विलय को लेकर मुलायम परिवार में जबरदस्त फूट पड़ गई है। पूरा घटनाक्रम देखें तो खुद-ब-खुद मुलायम परिवार में दरार की स्थिति साफ़ हो जाती है। कौमी एकता दल का विलय कराने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले प्रदेश के माध्यमिक शिक्षा मंत्री बलराम यादव को मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने बर्खास्त कर दिया है। नाराज अखिलेश यादव ने बुधवार के अपने सभी निर्धारित कार्यक्रम रद्द कर दिए हैं। इस बारे में कोई औपचारिक जानकारी भी नहीं दी है। बताया जा रहा है कि वह इस विलय को लेकर बहुत नाराज हैं।

मुख्तार अंसारी

कौमी एकता दल के विलय की घोषणा करने वाले शिवपाल यादव का कहना है कि ये विलय मुलायम सिंह यादव के कहने पर हुआ है। शिवपाल यह भी कहते हैं कि मेरी मुख्तार से कोई बात नहीं हुई है। जबकि बताया जाता है कि इस विलय के बारे में मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को जानकारी ही नहीं थी। मुलायम सिंह यादव का इस मामले में अभी तक कोई बयान नहीं आया है। अखिलेश की नाराजगी इस बात से समझी जा सकती है कि वह आपराधिक छवि वाले लोगों को पार्टी में नहीं चाहते हैं। इसीलिए 2012 के विधानसभा चुनाव के समय बाहुबली डीपी यादव को सपा में शामिल करने से इनकार कर चुके हैं। इस बार भी माफिया डॉन मुख्तार अंसारी की पार्टी के सपा में विलय से वह सहमत नहीं हैं। मगर उनके चाचा और लोक निर्माण मंत्री शिवपाल सिंह यादव ने मुख्तार की पार्टी के विलय के बारे में बाकायदा प्रेस कांफ्रेंस करके घोषणा कर दी है।

मंगलवार को हुआ था ये विवादित विलय

सपा के सीनियर लीडर और कैब‌िनेट मंत्री श‌िवपाल यादव ने कौमी एकता दल के सपा में ‌व‌‌िलय की घोषणा की थी। इस पार्टी के अध्यक्ष मुख्तार अंसारी के भाई अफजाल हैं। पार्टी के सपा में विलय की घोषणा करते हुए शिवपाल यादव ने कहा अंसारी की सपा में वापसी घर वापसी की तरह है। कौमी एकता दल के विलय से सपा को मजबूती मिलेगी। इस दल के पूर्वी यूपी में दो विधायक हैं। इस मौके पर अफजाल ने कहा, वह पहले भी सपा के साथ थे और अभी भी सपा के साथ हैं। अफजाल ने कहा, मोदी ने देश को धोखा द‌िया है और भाईचारा ‌ब‌िगाड़ा है।

पूर्वांचल के मुस्लिम वोटरों पर सपा की नज़र

माफिया डॉन मुख्तार अंसारी फिलहाल मऊ से विधायक हैं। पूर्वांचल के मुस्लिम वोटों पर उनकी अच्छी पकड़ मानी जाती है। ऐसे में कहा जा सकता है कि सपा मुस्लिम वोटों को एकजुट रखने के लिए चुनाव में मुख्तार के साथ जा सकती है। समाजवादी पार्टी ने पुष्टि करते हुए यह भी कहा था कि लखनऊ में बुधवार को एक कार्यक्रम में कौमी एकता दल के समाजवादी पार्टी में विलय की औपचारिक घोषणा की जाएगी। यही नहीं कल ही समाजवादी पार्टी और अजित सिंह की आरएलडी के बीच विधानसभा चुनावों में समझौते की औपचारिक घोषणा भी की जा सकती है।

 

loading...
शेयर करें