हाईकोर्ट ने माना-मुरथल में हुआ था गैंगरेप, जांच के दिए आदेश

0

चंडीगढ़। मित्तल गैंग रेप केस की सुनवाई के दौरान पंजाब-हरियाणा हाई कोर्ट की डिविजन बेंच ने गुरुवार को साफ़ तौर पर कहा कि मुरथल में बलात्कार हुए हैं आरोपों में कुछ हद तक सच्चाई भी है जिसकी जांच की जानी चाहिए

मुरथल

मुरथल में महिलाओं को खींचकर खेतों में ले जाया गया

जस्टिस एसएस सरन और जस्टिस दर्शन सिंह की बेंच ने सुनवाई कहा कि ‘ मुरथल में बलात्कार हुआ था और अपराधियों को गिरफ्तार किया जाना चाहिए।’ कोर्ट ने कहा कि हरियाणा की ओर से गठित एसआईटी को इन आरोपों की जांच करनी चाहिए। साथ ही उन अज्ञात लोगों पर शिकंजा कसना चाहिए जो अपहरण और बलात्कार जैसे संगीन अपराधों में शामिल थे।

ये भी पढ़ें:  कानपुर रेल हादसे में हुआ था प्रेशर कुकर बम का प्रयोग, आरोपी …

कोर्ट ने वारदात के चश्मदीद बॉबी जोशी और राज कुमार के बयान को दोहराते हुए कहा कि ‘महिलाओं को खींचकर खेतों में ले जाया गया।’ बेंच ने ये भी कहा कि खेतों से मिले महिलाओं के अंडर गारमेंट्स की जांच के बाद पता चला कि वहां रेप हुआ था।

चश्मदीद के बयानों को कोर्ट रूम मे पढ़कर सुनाया गया जिसमें लिखा था कि ‘सुखदेव ढ़ाबे के पास 3-4 लड़कों ने एक लड़की को उसके बालों से पकड़कर खींचा और झाड़ियों की तरफ ले गए जहां से उसके चिल्लाने की आवाजें आ रही थी वो मदद की गुहार लगा रही थी।’

उल्लेखनीय है कि कौर्ट के विपरीत हरियाणा सरकार ने मुरथल में किसी प्रकार के वारदात से साफ इनकार किया था। उनका कहना था कि इस मामले में कोई पीड़ित सामने नहीं आई है। लेकिन कोर्ट ने कुछ मामलों का संज्ञान लेते हुए सरकार को  जांच करने के आदेश दिए हैं।  अब इस केस की सुनवाई 28 फरवरी को होगी।

loading...
शेयर करें