सीएम अखिलेश ने चला दांव, शिवपाल से छीना PWD विभाग

0

लखनऊ। उत्‍तर प्रदेश में अभी भी मुलायम कुनबे में लड़ाई खत्‍म नहीं हुई है। अभी जो खबरें मिल रही हैं उसके मुताबिक सीएम अखिलेश और चाचा शिवपाल के समर्थक आमने-सामने आ गए हैं। वहीं पता चला है कि अखिलेश ने चाचा शिवपाल से पीडब्‍ल्‍यूडी विभाग छीन लिया है।

अखिलेश यादव

मुलायम कुनबे में लड़ाई को लेकर सभी ने ली चुटकी

प्रदेश के सीएम अखिलेश यादव के समर्थक प्रदर्शन के लिए उतरे और प्रदेश अध्यक्ष पद पर अखिलेश की वापसी की मांग करने लगे। समर्थन में सभी संगठन प्रमुखों ने इस्तीफे का ऐलान कर दिया। इस बीच, अखिलेश यादव ने यूपी कैबिनेट में 13 मंत्रालय शिवपाल यादव को सौंप दिए हैं। हालांकि, PWD मंत्रालय अपने पास रख लिया है जबकि चिकित्सा और आयुष मंत्रालय चाचा शिवपाल यादव को दिया है। विवाद बढ़ने के साथ अखिलेश ने PWD समेत तीन अहम मंत्रालय शिवपाल से वापस ले लिए थे।

भड़के अखिलेश के समर्थक

वहीं दूसरी ओर, चाचा शिवपाल को मंत्रिमंडल में कद और पद वापस मिलने से भड़के भतीजे अखिलेश के समर्थकों ने लखनऊ में पार्टी की अहम बैठक से पहले शनिवार को जमकर प्रदर्शन किया। अखिलेश समर्थकों की मांग है कि उन्हें वापस प्रदेश अध्यक्ष बनाया जाए। इसके समर्थन में सभी संगठन पदाधिकारी अखिलेश को अपना इस्तीफा सौंपेंगे। वे मुलायम सिंह से भी इस बारे में अपने फैसले पर विचार करने की अपील करेंगे। खबर है कि मुलायम सिंह यादव शनिवार को लखनऊ में पार्टी ऑफिस में कार्यकर्ताओं से मिलेंगे।

विवाद खत्म होने का किया था ऐलान

इससे पहले कई दिनों तक चली सियासी रस्साकस्सी के बाद शुक्रवार को कई दौर की बैठकें हुईं। इसके बाद मुलायम सिंह ने सुलह का रास्ता निकाला और कहा कि सपा में कोई लड़ाई नहीं है और सब कुछ ठीक है। उन्होंने ऐलान किया शिवपाल यादव पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष बने रहेंगे। अखिलेश मंत्रिमंडल से हटाए गए मंत्री गायत्री प्रजापति की कैबिनेट में वापसी होगी। इसी के साथ ये बात भी सामने आई कि टिकट बंटवारे में अखिलेश की चलेगी भले ही शिवपाल प्रदेश अध्यक्ष का जिम्मा संभालेंगे।

मेरे और नेताजी के बीच कोई बाहरी नहीं: अखिलेश

सीएम अखिलेश यादव ने बाहरी शब्द पर जोर देते हुए कहा कि मेरे और नेताजी के बीच कोई बाहरी व्यक्ति नहीं आ सकता। अखिलेश ने कहा कि मैं चाचा शिवपाल यादव और अमर सिंह की दोस्ती के बारे में नहीं बोलूंगा। अखिलेश ने कहा कि चाचा जानते हैं कि चीफ सेक्रेटरी दीपक सिंघल को क्यों हटाया।

loading...
शेयर करें