इन 10 बड़े कारणों की वजह से अखिलेश का सपा से हुआ निष्कासन

0

लखनऊ: लंबे समय से समाजवादी पार्टी में चल रहे कलह का अंत उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के निष्कासन से हुआ है। पार्टी मुखिया मुलायम सिंह यादव ने प्रेस कॉन्फ्रेस कर घोषणा की कि मुख्यमंत्री अखिलेश यादव और पार्टी महासचिव रामगोपाल यादव को छह वर्षों के लिए पार्टी से निष्कासित कर दिया गया है। आइये अब हम आपको वो कारण बताते हैं जिसकी वजह से पार्टी मुखिया ने मुख्यमंत्री और एक पिता ने अपने बेटे के खिलाफ बड़ा फैसला लेते हुए पार्टी से निष्कासित कर दिया।

मुलायम सिंह यादव

मुलायम सिंह यादव ने अखिलेश को छह साल के लिए पार्टी से निकाला 

-अखिलेश यादव क पार्टी से निष्कासन का पहला और सबसे बड़ा कारण रामगोपाल यादव हैं। रामगोपाल लगातार अखिलेश यादव के साथ जो रणनीति बना रहे थे वह मुलायम को पसंद नहीं आई।

-अखिलेश यादव अंसारी बंधुओं को पार्टी में शामिल किये जाने के खिलाफ थे जबकि मुलायम सिंह और शिवपाल उन्हें पार्टी म शामिल करना चाह रहे थे।

-अखिलेश यादव अपने उन समर्थकों को विधानसभा चुनाव का टिकट दिलवाना चाहते थे जो शिवपाल के विरोध में पहले अखिलेश का साथ दे चुके थे।

-अखिलेश व शिवपाल के संबंध पहले से ही खराब थे। जबकि मुलायम अपने भाई शिवपाल के पक्ष में खड़े दिखाई दे रहे थे।

-बीते दिन मुलायम और शिवपाल के द्वारा जारी की गई प्रत्याशियों की लिस्ट के खिलाफ अखिलेश ने एक अलग लिस्ट जारी कर दी थी।

-मुलायम सिंह यादव ने अखिलेश को प्रदेश अध्यक्ष पद से हटाकर शिवपाल को इस पद की जिम्मेदारी दे दी थी जबकि अखिलेश शुरुआत से ही 2017 विधानसभा चुनाव में अपने उम्मीदवारों के साथ चुनाव लड़ना चाहते थे।

-अखिलेश के पार्टी से निकाले जाने के पीछे एक बड़ा कारण बाहुबली नेता अतीक अहमद और अमनमणि त्रिपाठी भी हैं। अखिलेश सपा पर लगे गुंडों की पार्टी का टैग हटाना चाह रहे थे जबकि शिवपाल ने अपनी लिस्ट में अतीक और अमनमणि जैसे कई अपराधिक प्रवत्ति के नेताओं के नाम शामिल किया।

loading...
शेयर करें