मुस्लिमों से नफरत करने वालों को हिन्दू शहीद की बेटी का पैगाम

1

नई दिल्ली हर मुस्लिम को पाकिस्तानी समझने की अवधारणा से ग्रस्त कई लोग मुस्लिमों से नफरत करते हैं। ऐसे गुमराह लोगों के लिए एक शहीद सैनिक की बेटी का संदेश है, जिसमें उन्होंने इस अवधारणा मुस्लिमों से नफरत को बेबुनियाद बताया है।

यह भी पढ़ें : कांग्रेस छोड़ बीजेपी के करीब आ रहे हैं संजय दत्त

मुस्लिमों से नफरत

मुस्लिमों से नफरत पर बनाया वीडियो

करगिल युद्ध में शहीद कैप्टन मंदीप सिंह की बेटी गुरमेहर कौर का एक विडियो फेसबुक सामने आया है, जिसमें उन्होंने बिना कुछ बोले लिखित संदेशों के माध्यम से यह विचार साझा किया है। गुरमेहर जब 2 साल की थीं, तब ही उनके पिता शहीद हो गए थे।

बचपन में वह भी हर पाकिस्तानी से नफरत करती थी

उन्होंने बताया कि बचपन में वह भी हर पाकिस्तानी और हर मुस्लिमों से नफरत करती थीं क्योंकि वह सबको अपने पिता की मौत का जिम्मेदार समझती थीं। लेकिन उनकी मां ने उन्हें समझाया कि ऐसा नहीं है और उनके पिता की मौत का जिम्मेदार पाकिस्तान नहीं बल्कि दोनों देशों के बीच होने वाली जंग थी।

यह भी पढ़ें : रेस्तरां के बाहर साथ दिखे ऋतिक- सुजैन, हो सकता है पैचअप !

मां की इस सीख के चलते उन्हें भी इसका अहसास हुआ। इसके बाद ही उन्होंने राम सुब्रमनियन के साथ मिलकर यह विडियो बनाया और दोनों देशों की सरकारों से यह गुहार लगाई कि दोनों देशों के ज्यादातर लोग इस तनाव के खिलाफ हैं और इसे जल्द से जल्द खत्म किया जाए।

यहां देखें पूरा वीडियो :

 

(नवभारत टाइम्स से साभार)

शेयर करें

1 टिप्पणी

  1. क्योकि राज तो 68 साल से 3.5 ब्राहनो का है देश मैं।
    देश मैं ब्राह्मणों की पार्टिया
    1) कांग्रेस
    2) बाजपा
    3) मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी
    4)कम्युनिस्ट पार्टी
    5) तृनुमूल कांग्रेस
    6) AIDMK तमिल नाडु
    7) शिवसेना
    इन पार्टियो का हाईकमांड ब्राह्मण चलाते है। और बाकी नेता चमचे और ब्राह्मणों के गुलाम नेता होते है।

    मीडिया और प्रिंटमीडिया 100% ब्राहनो के कब्जे मैं

    1)जादा तर देश के बड़े सरकारी पद 2) सुप्रीम कोर्ट और सुप्रीम कोर्ट के न्यायधीश , 3)केन्दीय और राज्य के मंत्रियो सचिव् , 4)सार्वजनिक क्षेत्रो की बड़ी कम्पनियो के पद्दो, 5)इलेक्ट्रानिक मिडिया ,प्रिंट मिडिया, संपादक,न्यूज़ एंकर संवादाता,
    अथवा प्रेस ट्रस्ट के अधिकारी पद ,
    6)यूनिवरसिटी अथवा उच्च शिक्षण संस्था के चान्सलर
    7)सेना के बड़े बड़े अधिकारी
    पदों पर 3.5% यरेशियन (आर्य)ब्राह्मणों का कब्जा है।

    पदों पर इन ब्राह्मण सरनेम आपको जादातर दिखेंगे।

    ‘शर्मा ,पांडे ,तिवारी ,मिश्रा , द्विवेदी ,अवस्थी , बक्शी, दत्त,ओझा त्रिवेदी ,जोशी ,श्रीवास्तव ,पाठक
    शुक्ला ,चतुर्वेदी ,दुबे ,भारद्वाज
    सरस्वती ,स्वामी ,उपाध्याय
    रॉय ,सेन ,आचार्य ,भावे,
    नेहरू, बोस, सरदेसाई, आनंद
    बनर्जी ,मुखर्जी ,चटर्जी ,वाजपेयी
    देसाई , दिक्सित , झा , रस्तोगी
    भट ,रॉय , शात्री , तिलक दत्त , हेगड़े ,मूर्ति ,सत्यार्थी
    फड़नवीस ,देशपांडे, शौरी धर्माधिकारी ,कुलकर्णी,गिरी
    भागवत ,डांगे ,सप्तर्षि , घोष ,
    त्रिपाठी, भट्टाचर्य, भण्डारी,
    पूरी,व्यास, सेन,बालकृष्णन सावरकर,आज़ाद ,तिलक ,मेहता विस्वास,वशीष्ट,कौशिक,कश्यप प्रसाद’,

    ‘ जाती, धर्म , आरक्षण ,गरीबी- अमीरी,उच-नीच के नाम पे 96.5 फुट डालो राज करो’ देश मैं
    ब्रिटीश नहीं ब्राह्मण कर रहे है।

    ‘जागो 96.5 भारतीय जागो
    और जगाव’