मुहांसे की समस्या अब DNA टेस्ट के जरिए होगी दूर

0

काफी लंबे समय से लोशन, हर्बल इलाज और मेडिटेशन करने के बाद भी मनीषा सावंत की मुहांसे की समस्या दूर नहीं हुई। 32 साल की मनीषा सावंत ने अपना डीएनए टेस्ट करवाया ताकि वह अपने चेहरे पर अक्सर होने वाली इस समस्या की जड़ तक पहुंच सकें। मुंबई की रहने वाली काउंसलर मनीषा ने कहा, ‘मैंने जब अपना डीएनए टेस्ट करवाया तो पता चला की मेरे जीन्स जो ज्वलनशीलता को नियंत्रित करते हैं उनमें कुछ परिवर्तन है जिस वजह से मेरे चेहरे पर ज्यादा मुंहासे हो रहे थे।’

मुहांसे की समस्या

मुहांसे की समस्या कस्टमाइज इलाज के जरिए हुई दूर

उन्होंने कहा कि इससे मेरे डर्मटॉलिस्ट को मदद मिली और उन्होंने मेरी त्वचा के आधार पर मेरा कस्टमाइज इलाज शुरू किया और कुछ ही महीनों में मुझे बेहतर नतीजे मिलने लगे। साल 2003 में जब इंसान के जीन समूह का नक्शा तैयार हुआ तब से लेकर अब तक शोधकर्ता इस जानकारी का इस्तेमाल कैंसर और दिल की बीमारी जैसे गंभीर रोग का इलाज करने के साथ ही पैटरनिटी साबित करने में भी कर रहे हैं। लेकिन अब तो धीरे-धीरे डीएनए टेस्ट के जरिए वजन से जुड़ी समस्या और स्किन प्रॉब्लम में भी इसका इस्तेमाल होने लगा है।

चेन्नै के एक डीएनए लैब एक्सकोड ने पिछले 3 साल में कई हजार टेस्ट किए हैं ताकि लाइफस्टाइल से जुड़ी समस्याओं के बारे में पता लगाया जा सके। इस लैब के सह संस्थापक डॉ सलीम मोहम्मद कहते हैं, ‘जीन्स सभी चीजों को प्रभावित करते हैं जिसमें बीमारियां, स्वास्थ्य और उम्र बढ़ना शामिल है।

स्किन के संदर्भ में हम समय से पहले आने वाली झुर्रियां, कॉलैजन ब्रेकडाउन, ऑक्सिडेटिव स्ट्रेस और डार्क पैचेज की समस्या के बारे में पहले से ही जानकारी हासिल कर सकते हैं। इस जानकारी के आधार पर हर किसी को एक जैसी क्रीम और एक जैसा ट्रीटमेंट देने की बजाए व्यक्ति के ट्रीटमेंट को कस्टमाइज किया जा सकता है।’

वेलनेस कंपनी वीएलसीसी ने साल 2015 में अपने डीएनए स्किन प्रोग्राम की शुरुआत की थी और अब तक यहां 500 से ज्यादा टेस्ट किए जा चुके हैं। जीन टेस्ट की कीमत 5 हजार से लेकर 20 हजार या कभी-कभी 1 लाख रुपये तक हो सकती है जो टेस्ट की संख्या और किस तरह का जीन टेस्ट किया जा रहा है, इस पर निर्भर करता है।

loading...
शेयर करें