सावधान ! अगर मैकडॉनल्ड्स का बर्गर खाने के हैं शौकीन

0

जयपुर। अगर आप फास्टफूड जैसे मैकडॉनल्ड्स का बर्गर, पिज्जा और फ्रेंच फ्राइज़ के शौकीन हैं तो थोड़ा संभल जाइये क्योंकि कहीं आपको थोड़ी देर का सुख देने वाले ये पदार्थ आपके लिए खतरे की घंटी ना बन जायें।

मैकडॉनल्ड्स को लेकर एक बहुत ही चौंकाने वाला खुलासा हुआ है। स्वास्थ्य विभाग द्वारा की गयी जांच में पाया गया है कि मैकडॉनल्ड्स कंपनी अपने फूड प्रोडक्ट्स को बनाने के लिए तेल 16 दिन तक लगातार प्रयोग करती है।मैकडॉनल्ड्स का बर्गर

 

मैकडॉनल्ड्स का बर्गर बन सकता है जानलेवा बीमारियों का कारण

जयपुर स्वास्थ्य विभाग द्वारा 17 जून को किए गए एक नियमित निरीक्षण ड्राइव के अनुसार, मैकडॉनल्ड्स के तीन ब्रांचों में बर्गर या अन्य फास्ट फूड बनाने के लिए प्रयोग किया जाने वाला तेल 16 दिन पुराना था। खबर के अनुसार इस तेल को 16 दिनों तक रोज 360 डिग्री तापमान पर गर्म किया जाता है, जिससे इसका रंग काला हो जाता है।

स्वास्थ्य विशेषज्ञों बताया कि बार-बार एक ही तेल को गर्म करने से यह अपना न्यूट्रीशन खो देता है। इसके बाद इस तेल से तैयार किए जाने वाले फूड प्रोक्ट्स हृदय रोग और स्तन कैंसर जैसी बिमारियों का कारण न्बंते हैं. यह शरीर के लिए बहुत घातक है।

जांच के दौरान यह भी पाया गया कि कुछ मैकडॉनल्ड्स के आउटलेट के पास तो तेल के प्रयोग में लाने की प्रबंधन प्रणाली भी नहीं थीं। यह जांच, अधिकारियों को इस बात के लिए भी प्रेरित करता है कि वे अन्य फूड कंपनी जैसे केएफसी और सबवे से भी सेंपल कलेक्ट करके उनका भी निरीक्षण करें और पता लगाएं कि वो कम्पनिया भी कहीं  ऐसी चीजों का प्रयोग तो नहीं कर रहीं।

हालांकि मैकडॉनल्ड्स कंपनी ने इन सभी आरोपों का खंडन किया है। मैकडॉनल्ड्स आज  विश्व की सबसे बड़ी फास्ट फूड की कम्पनी बन चुकी है। मैकडॉनल्ड्स कंपनी  प्रतिदिन 58 मिलियन से ज्यादा ग्राहकों को अपनी सेवा  प्रदान करती है। भारत में भी इस कम्पनी की लोकप्रियता आसमान छू रही हैं।

loading...
शेयर करें