मोदी सरकार में लाल किले का हुआ ‘सौदा’, अगला नंबर ताजमहल का

0

नई दिल्ली। देश में अब तक की सबसे बड़ी डील हुई है। जिसके तहत भारत की ऐतिहासिक धरोहर लाल किले का सौदा हो चुका है। शाहजहां द्वारा बनवाई गई इस इमारत को डालमिया ग्रुप ने 25 करोड़ में गोद लिया है। इसके बाद सरकार दुनिया के सात अजूबों में से एक ताजमहल को भी एडॉप्ट ए हेरिटेज स्कीम के तहत किसी बड़े ग्रुप को दे सकती है।

5 सालों के लिए लालकिले के रखरखाव की जिम्मेदारी डालमिया ग्रुप की होगी
डील के मुताबिक अगले 5 सालों के लिए लाल किले के रखरखाव की जिम्मेदारी डालमियां ग्रुप की होगी। इसके लिए उसने सरकार को 25 करोड़ रुपए दिए हैं। लाल किला देश का पहला ऐसा कॉर्पोरेट हाउस बन गया है, जिसने किसी ऐतिहासिक इमारत को गोद लिया है।

केंद्र सरकार ने बीते साल सितंबर महीने में एडॉप्ट ए हेरीटेज स्कीम लॉन्च की थी। पूरे देश की सौ ऐतिहासिक इमारतों को इसके लिए चिन्हित किया गया था। इन इमारतों में ताजमहल, कांगड़ा फोर्ट, कोणार्क का सूर्य मंदिर और सती घाट कई प्रमुख स्थल शामिल हैं।

डालमिया ग्रुप, पर्यटन मंत्रालय और भारतीय पुरातत्व विभाग के बीच इस कॉन्ट्रेक्ट पर 9 अप्रैल को हस्ताक्षर हुए थे। इस कॉन्ट्रेक्ट के मुताबिक डालमिया ग्रुप को 6 महीने के भीतर लाल किले में बेसिक सुविधाएं देनी होंगी, जिनमें पीने के पानी की सुविधा, स्ट्रीट फर्नीचर जैसी सुविधाएं हैं।

loading...
शेयर करें