मौलवी ने लूटी थी 11 साल की बच्ची की आबरू, पुलिस ने नहीं की कार्रवाई तो लोगों ने जमकर काटा बवाल

नई दिल्ली। पूर्वी दिल्ली के गाजीपुर की रहने वाली 11 वर्ष की मासूम रोज़ की तरह अपने घर से हस्ते खेलते हुए घर का सामान लेने निकली थी। लेकिन अगले पल उस मासूम के साथ क्या होने वाला था उसे कोई भनक न थी। अचानक से घर की लाडली अपने माता पीता के नजरों से ओझल हो गई काफी देर तक घर नहीं लौटी तो मां की ममता ने उसके ह्रदय में चिंता के रूप में दस्तक दी। काफी देर तक तलाशने के बाद जब कोई खबर ना आई तो घर वालों ने पुलिस का दरवाज़ा खटखटाया।

मौलवी

पुलिस ने भी बच्ची को तलाशना शुरू किया। पुलिस ने काफी जोरों शोरों से छानबीन शुरू की। एक दिन अचानक से कुछ दिनों बाद घरवालों को उनकी लाडली के मिलने की सूचना प्राप्त हुई। इस खबर से मां के चेहरे पर हंसी की परत चढ़ गई। मगर उन्हें ये नहीं पता था कि जिस लाडली को उन्होंने नाजों से पाला है उसे कुछ वहशी दरिंदों ने अनपी जिस्म की भूख मिटाने के लिए रौंध दिया है।

आपको बता दे कि ये मामला जीपुर थाने के अंतर्गत आने वाले मयूर विहार फेज-3 का है। जहां पर दो दिन पहले मदरसे में एक मौलवी ने एक युवक के साथ मिलकर बच्ची का गैंगरेप किया। मेडिकल रिपोर्ट में भी इस बात की पुष्टि हो चुकी है कि बच्ची को ड्रग्स दे कर उसके साथ हैवानियत की गई है।

रिपोर्ट आने के बाद भी आरोपी को गिरफ्तार न किए जाने की वजाह से लोगों ने आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग को लेकर गाजीपुर थाने के बाहर जमकर प्रदर्शन हुआ। हिन्दू संगठन के लोगों ने थाने के बाहर जमकर बवाल काटा। प्रदर्शन कर रहे लोगों का आरोप है कि इस मामले में पुलिस आरोपियों को बचा रही है।

उल्लेखनीय है कि पूरे मामले में पॉक्सो एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज कर आरोपी को गिरफ्तार कर लिया था। मगर इनके खिलाफ अभी तक पुलिस ने कार्रवाई नहीं की। इन दोनों के खिलाफ कार्रवाई की मांग को लेकर अलग-अलग हिन्दू संगठनों के लोग गाज़ीपुर थाने पर जमा हो गए और जमकर प्रदर्शन किया। इस दौरान पुलिस के खिलाफ नारेबाजी की गयी।

Related Articles