यशवंत सिन्हा ने किया बड़ा ऐलान, बीजेपी से ख़त्म किए सारे रिश्ते, कहा- मिलकर लोकतंत्र के खिलाफ करेंगे आंदोलन

नई दिल्ली। पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा ने भारतीय जनता पार्टी छोड़ने का ऐलान किया है। पटना के एसकेएम मेमोरियल हॉल में आयोजित राष्ट्रमंच कार्यक्रम के दौरान उन्होंने इस बात की घोषणा की।

यशवंत सिन्हा

कार्यक्रम के दौरान उन्होंने बीजेपी पर तंज़ कसते हुए इशारों इशारों में कहा, आज देश का लोकतंत्र खतरे में है उन्होंने संसद सत्र छोटा होने पर केंद्र को घेरा। कहा, जान बूझकर भारत सरकार ने सत्र नही चलने दिया, सत्र छोटा रखा। गुजरात चुनाव को लेकर सत्र छोटा हुआ।

सिन्हा ने जिक्र किया कि अब वो किसी पार्टी को समर्थन नहीं करेंगे और न ही किसी राजनैतिक पार्टी का हिस्सा बनेगे। उन्होंने कहा कि लोकतंत्र खतरे में है और इसे बचाने के लिए हम घोर आन्दोलन करेंगे और लोकशाही को ख़त्म करेंगे।

इस कार्यक्रम के दौरान भारतीय जनता पार्टी से नाराज चल रहे शत्रुघ्न सिन्हा के अलावा अन्य राजनैतिक दलों के नेता भी पहुंचे थे। ज्ञात को कि यशवंत सिन्हा बीजेपी के 2014

सरकार के बाद से पार्टी से नाराज चल रहे है। यहां तक कि पिछले दिनों नोटबंदी के फैसले और जीएसटी लागू करने के तरीके को लेकर भी उन्होंने मोदी सरकार पर तीखा हमला किया था।

बता दे कि यशवंत सिन्हा के बेटे संजय सिन्हा अब भी मोदी सरकार में मंत्री हैं।

यशवंत सिन्हा 1998 में पहली बार लोकसभा के लिए चुने गए थे। अटल बिहारी सरकार के समय वो वित्त मंत्री थे।

 

Related Articles