IPL
IPL

मोबाइल एप लेगा यूपी बोर्ड परीक्षार्थियों की अटेंडेंस

लखनऊ। उत्‍तर प्रदेश की शिक्षा प्रणाली को सुधारने और परीक्षार्थियों की उपस्थिति जांचने के लिए लगातार कोशिशें जारी हैं। इस दिशा में यूपी बोर्ड परीक्षा के लिए एक और कदम उठाया गया है। एक्‍जाम में परीक्षार्थी की जगह कोई और न बैठे पाए और असली छात्र ही परीक्षा दे इसके लिए अब यूपी बोर्ड परीक्षा में इस बार मोबाइल एप से विद्यार्थियों की हाजिरी लगाई जाएगी। साथ ही नकल के लिहाज से संवेदनशील 31 जिलों में एक निश्चित क्रम की उत्तर पुस्तिकाएं उपलब्ध कराई जाएंगी, ताकि बाहर से कॉपी लिखकर लाने की गुंजाइश ही न बचे।

यूपी बोर्ड परीक्षा 18 फरवरी से

माध्यमिक शिक्षा मंत्री बलराम यादव बिना ने कहा कि यूपी बोर्ड परीक्षा में परीक्षार्थियों की उपस्थिति को सत्यापित करने के लिए एक मोबाइल एप तैयार किया जा रहा है, जो परीक्षा केंद्र व्यवस्थापक के एंड्रॉयड फोन में उपलब्ध रहेगा। इस एप के माध्यम से छात्र का रोलनंबर फीड होते ही उससे संबंधित पूरी जानकारी विभागीय सर्वर के डाटाबेस में भी दर्ज हो जाएगी। माध्यमिक शिक्षा राज्यमंत्री विजय बहादुर पाल ने कहा कि 18 फरवरी से शुरू होने वाली परीक्षाओं को सुचारु तरीके से कराना हमारी प्राथमिकता है। प्रमुख सचिव माध्यमिक शिक्षा जितेंद्र कुमार ने कहा कि परीक्षा कक्ष में छात्राओं की चेकिंग महिला कक्ष निरीक्षक से कराने की व्यवस्था सुनिश्चित की जाए। उन्होंने मुख्यमंत्री की घोषणा के तहत खुलने वाले विद्यालयों का भवन निर्माण प्राथमिकता के आधार पर पूरा कराने के निर्देश भी दिए।

शिक्षकों में शिक्षकों को नए मौके

माध्यमिक शिक्षा मंत्री बलराम यादव ने लड़कियों को विज्ञान, गणित और वाणिज्य विषयों की पढ़ाई के लिए प्रोत्साहित करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि राजकीय इंटर कॉलेजों और राजकीय बालिका इंटर कॉलेजों में इन विषयों की मान्यता दिलाने के साथ ही इनके शिक्षकों के पद भी सृजित किए जाएंगे। यादव ने कहा कि मान्यता के लिए प्राप्त सभी आवेदन पत्रों को परिषद से अनुमोदित कराने के बाद शासन को मार्च के दूसरे सप्ताह में भेज दिया जाए, ताकि जुलाई से वहां पढ़ाई शुरू हो सके। उन्होंने राजकीय माध्यमिक विद्यालयों में एलटी ग्रेड के विज्ञापित पदाें पर चयनित अभ्यर्थियों के अंकपत्रों और प्रमाणपत्रों का जल्द सत्यापन कराने को भी कहा।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button