यूपी में बढ़ते कोरोना मामले को देखते हुए सीएम याेगी ने उठाया ये… सख्त कदम

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ लखनऊ समेत राज्य के अन्य जगह कोरोना के बढ़ते मामलों पर चिंता जताते हुए कंटेन्मेंट जोन में सख्ती के निर्देश दिए हैं। लखनऊ में संक्रमण की दर को रोकने के लिए कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग हर हाल में  की जाए।

घर-घर सर्वे में एंजीजेन टेस्ट किए हैं। साथ ही कोविड-19 संक्रमित व्यक्ति को होम आइसोलेशन में रखने पर विचार करने और एसओपी तैयार करने के निर्देश दिए। कोविड-नान कोविड मरीज 15 मिनट से अधिक होल्डिंग एरिया में न रहें। सभी सेवाओं और गतिविधियों को इण्टीग्रेटेड कमाण्ड एण्ड कण्ट्रोल सेण्टर से जोड़ा जाए। हर जिले में इण्टीग्रेटेड कमाण्ड एवं कण्ट्रोल सेंटर स्थापित कर क्रियाशील किए जाने के निर्देश दिए।

मुख्यमंत्री  ने अपने आवास पर लखनऊ में कोविड-19 संक्रमण के नियंत्रण के लिए बैठक की। उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य विभाग और प्रशासन किसी भी प्रकार की शिथिलता या लापरवाही न बरतें। इस महामारी की आपदा में मानव सेवा हमारा धर्म होना चाहिए, जिसमें गलतियों के लिए कोई स्थान न हो। डोर-टू-डोर सर्वे के कार्य में कोई कोताही न हो।

डीजी स्वास्थ्य की तुरंत नियुक्ति करें
मुख्यमंत्री ने डीजी हेल्थ की तत्काल नियुक्ति के लिए मुख्य सचिव को निर्देश दिए। कमाण्ड एण्ड कण्ट्रोल सेंटर ऐसा हो, जिससे यह निश्चित हो सके कि मरीज की स्थिति के अनुसार उसे लखनऊ के डा. राम मनोहर लोहिया आयुर्विज्ञान संस्थान, एसजीपीजीआई, केजीएमयू और एल-1, एल-2 अथवा एल-3 अस्पतालों में भर्ती किया जाए। सीएमओ की टीम मरीज की स्थिति की जानकारी प्राप्त कर निश्चित अस्पताल में उसे तुरन्त भेजने की व्यवस्था करें।

लोकबन्धु अस्पताल में बेड बढ़ाए जाएं
मुख्यमंत्री ने लोकबन्धु अस्पताल में बेड बढ़ाने के निर्देश दिए। कहा कि बेड को बढ़ाकर 200 किया जाए। सिविल अस्पताल लोकबन्धु, बलरामपुर और डा. राम मनोहर लोहिया अस्पताल के प्रभारी चिकित्सकों से स्थिति की जानकारी प्राप्त की और जरूरी दिशा-निर्देश दिए। एसजीपीजीआई के निदेशक को डा. राम मनोहर लोहिया आयुर्विज्ञान संस्थान का भ्रमण करने के निर्देश दिए। उन्होंने एसजीपीजीआई के निदेशक को आरएमएल, सिविल, लोकबन्धु, बलरामपुर के प्रभारियों के साथ बैठक कर उपचार के बारे में एक एसओपी विकसित करने को कहा।

वार्डों में पुलिस एड्रेस सिस्टम लगाएं
उन्होंने कहा कि पुलिस-प्रशासन लखनऊ के सभी 110 वार्डों में पुलिस एड्रेस सिस्टम के माध्यम से मास्क, सोशल डिस्टेंसिंग, साफ-सफाई  व इन्फोर्समेण्ट की कार्यवाही को प्रभावी ढंग से लागू किया जाए।

-पेट्रोल पंप पर ग्राहकों के लिये मास्क अनिवार्य हो

-कोविड-19 के नियंत्रण के लिए धन की कोई कमी नहीं है।

-मरीजों के परिजनों को हालात के बारे में लगातार बताएं।

-डिस्चार्ज के समय केंद्र सरकार के निर्देशों का पालन करें।

-डिस्चार्ज मरीज को होम क्वारण्टीन में निश्चित समय तक भेजा जाए।

-मरीज को सर्विलांस सिस्टम से जोड़ा जाए।

-हर वार्ड में सर्वे टीम तैनात करें।

-सर्वे की व्यवस्था सर्विलांस टीम द्वारा सर्वे की व्यवस्था इस प्रकार की जाए कि हर 8 से 10 दिन के बाद पुनः डोर-टू-डोर सर्वे किया जा सके।

– आईएमए और नर्सिंग एसोसिएशन के साथ जिला प्रशासन की हर सप्ताह बैठक हो।

Related Articles