‘राज्यपाल वापस जाओ’ के नारे, फिर अभिभाषण और सदन स्थगित

0

लखनऊ। यूपी विधानसभा में आज भी कुछ नया नहीं हुआ। जैसा हमेशा होता आया है विधानसभा सत्र के पहले दिन विपक्ष का जमकर हंगामा हुआ। बसपा, रालोद और कांग्रेस ने बैनर-पोस्टर लेकर हंगामा किया। राज्यपाल राम नाईक के सदन में पहुँचते ही विपक्ष ने ‘राज्यपाल वापस जाओ’  के नारे लगाए। हंगामे के बीच अभिभाषण खत्म करने के बाद राज्यपाल चले गए औऱ सदन की कार्यवाही को स्थगित कर दिया गया।

यूपी विधानसभा
सांकेतिक फाइल फोटो

यूपी विधानसभा में जमकर हंगामा

यूपी विधानसभा का सत्र शुरु होते ही विपक्षी पार्टियों ने हंगामा किया। शोर शराबे के बीच राज्यपाल को अभिभाषण करना पड़ा। विपक्षी पार्टियां गन्ना किसानों के बकाया और राज्य में बिगड़ती कानून व्यस्था के नाम पर हंगामा कर रही थी। विपक्षी दलों का कहना था कि समाजवादी पार्टी की सरकार में हत्या, लूट, डकैती और रेप की की घटनाओं में वृद्धि हुई है।

दरअसल राज्यपाल को अपने अभिभाषण में सरकार का पक्ष रखना होता है। विपक्षी पार्टियां इसी का विरोध कर रही थी। विपक्ष विधायकों ने नारे लगाए ‘राज्यपाल वापस जाओ’। जिस वक्त सदन में हंगामा हो रहा उस वक्त मुख्यमंत्री अखिलेश यादव भी शांत होकर सब सुन रहे थे और उन्हीं के सामने बसपा, रालोद और कांग्रेस के विधायक हंगामा कर रहे थे।

विपक्ष का कहना था कि राज्यपाल का भाषण झूठ का पुलिंदा है। विपक्ष के विधायकों का नेतृत्व बसपा नेता नसीमुद्दीन और स्वामी प्रसाद मौर्या कर रहे थे। हालांकि राज्यपाल ने अभिभाषण से पहले सभी दलों के नेताओं को पत्र लिखकर शांति बनाए रखने की अपील की थी। राज्यपाल ने इसके लिए राष्ट्रपति के पत्र का भी हवाला दिया था कि सदन की कार्रवाई शांतिपूर्ण ढंग से चलनी चाहिए।

उसके बाद में विपक्षी दलों के नेता मानने को तैयार नहीं थे औऱ वे राज्यपाल के अभिभाषण के दौरान हंगामा और नारेबाजी करते रहे। कांग्रेस ने बुंदेलखंड को अकालग्रस्त घोषित करने की मांग को लेकर हंगामा किया।  राज्यपाल ने हंगामे के बीच ही अभिभाषण पढ़ा। इसके बाद सदन की कार्यवाही 8 फरवरी तक के लिए स्थगित कर दी गई।

सदन में विपक्ष के नेता स्वामी प्रसाद मौर्य ने कहा कि राज्यपाल सरकार के झूठ का पुलिंदा पढ़ने आये थे। हमारे विधायक उनकी बकवास नहीं सुनेंगे। उन्होंने कहा कि हम तो राज्यपाल के सामने सरकार का सच ला रहे थे लेकिन राज्यपाल का सारा ध्यान अभिभाषण में था। उन्होंने कहा कि राज्यपाल और सरकार एक ही सुर में बोल रहे हैं।

loading...
शेयर करें