जापान के इस शख्स को मिला चिकित्सा का नोबेल अवार्ड

0

टोक्यो। इस साल का चिकित्सा का नोबेल पुरस्कार जापान के कोशिका विज्ञानी योशिनोरी ओहसूमी को मिला है। योशिनोरी को यह पुरस्कार ‘ऑटोफैगी’ प्रक्रिया की खोज के लिए मिला है, जो शरीर में कोशिकाओं के नष्ट होने की प्रक्रिया है। योशिनोरी ऑटोफैगी के विशेषज्ञ हैं और टोक्यो इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी के फ्रंटियर रिसर्च सेंटर में प्रोफेसर हैं।

योशिनोरी ओहसूमी

यह भी पढ़े- इस एक्ट्रेस को नहाते हुए पसंद है खाना, शेयर की फोटो

योशिनोरी ओहसूमी को मिला इस साल का चिकित्सा का नोबेल पुरस्कार

कैरोलिंस्का इंस्टीट्यूट में सोमवार को नोबेल एसेंबली ने चिकित्सा का नोबेल पुरस्कार योशिनोरी ओहसूमी को देने का फैसला किया। जिनकी खोज से इस बात को समझने में मदद मिलेगी कि कोशिका अपनी सामग्री का किस प्रकार पुनर्चक्रण करती है।

नोबेल पुरस्कार की वेबसाइट पर जारी एक बयान के मुताबिक, “उनकी खोज से कई शारीरिक प्रक्रियाओं में ऑटोफैगी की मूल महत्ता को समझने का मार्ग खुलेगा।”

यह भी पढ़े- सनी लियोन ने डर के कारण ‘सही पकड़े हैं’ बोलने से किया मना

ऑटोफैगी की अवधारणा का जन्म सन् 1960 में हुआ था, जब पहली बार यह सामने आया कि कोशिका खुद को एक भित्ती के अंदर बंद कर अपनी सामग्री को नष्ट कर सकती है और इस प्रक्रिया में एक थैली जैसी पुटिकाओं का निर्माण होता है, जो लाइसोसोम तक जाता है, जो इसे नष्ट कर देता है।

loading...
शेयर करें