रक्तदान करने से हिचकिचाएं नहीं, क्योंकि इससे ब्लड डोनेट करने वालों को होते हैं फायदे

रक्तदान को महादान कहते हैं, क्योंकि इससे किसी जरूरतमंद व्यक्ति को नया जीवनदान मिलता है. बावजूद इसके अधिकांश लोग ऐसे भी हैं जो रक्तदान करने से हिचकिचाते हैं, लेकिन क्या आप जानते हैं कि रक्तदान करने से न सिर्फ किसी को जीवनदान दिया जा सकता है, बल्कि इससे रक्तदाता की सेहत को भी फायदे होते हैं. विशेषज्ञों की मानें तो रक्तदान करने से दिल की सेहत में सुधार आता है और वजन नियंत्रित होता है. इतना ही नहीं इससे रक्तदाता के तन और मन दोनों पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है.

दरअसल, 18 से 60 साल की उम्र तक का कोई भी व्यक्ति रक्तदान कर सकता है, बशर्ते इसके लिए जरूरी है कि रक्तदान करने वाला व्यक्ति स्वस्थ हो और सेहत के कुछ मानकों पर खरा उतरता हो. बता दें कि ज्यादातर लोग रक्तदान से होनेवाले फायदों से अब तक अंजान हैं, तो चलिए जानते हैं रक्तदान किस तरह से रक्तदाता की सेहत को फायदा पहुंचाता है.

1- दिल को बनाए सेहतमंद

रक्तदान आपके दिल की सेहत को दुरुस्त बनाने में मदद करता है. दरअसल, रक्तदान करने दिल की बीमारियों और स्ट्रोक का खतरा कम होता है. बता दें कि नियमित तौर पर रक्तदान करने से खून में आयरन की मात्रा नियंत्रित रहती, जिसे दिल की सेहत के लिए अच्छा माना जाता है.

2- लाल रक्त कोशिकाओं में वृद्धि

रक्तदान करने से शरीर में लाल रक्त कोशिकाओं का उत्पादन बढ़ जाता है. दरअसल, रक्तदान के बाद शरीर खून की मात्रा को पूरा करने के लिए कार्य करने लगता है, जिससे शरीर की कोशिकाएं ज्यादा लाल रक्त कोशिकाओं के उत्पादन के प्रेरित होती हैं. इतना ही नहीं इससे शरीर भी बेहतर तरीके से अपना कार्य करता है.

3- मोटापे को कम करने में सहायक

रक्तदान शरीर के बढ़ते हुए वजन और मोटापे को कंट्रोल करने में मदद करता है. दरअसल, रक्तदान को वजन कम करने का तरीका तो नहीं कहा जा सकता है, लेकिन रक्तदान के बाद स्वस्थ डायट और नियमित व्यायाम से वजन को नियंत्रित करने में मदद मिलती है.

4- कैंसर का खतरा होता है कम

रक्तदान करने वाले लोगों को रक्तदान न करने वालों के मुकाबले कैंसर होने का खतरा कम होता है. दरअसल, नियमित अंतराल पर रक्तदान करके आप अपने शरीर में आयरन की अधिकता से बच सकते हैं. आयरन की संतुलित मात्रा और रक्तदान करने से कुछ प्रकार के कैंसर का खतरा कम होता है.

5- सेहत होती है पहले से बेहतर

नियमित रूप से रक्तदान करने वाले लोग दूसरों के मुकाबले ज्यादा स्वस्थ रहते हैं. दरअसल, रक्तदान शरीर की कोशिकाओं को प्रोत्साहित करता है, जिससे शरीर का स्वास्थ्य बेहतर होता है. इसके अलावा इससे ब्लड प्रेशर भी नियंत्रित होता है और बीमारियों से बचाव होता है.

गौरतलब है रक्तदान के दौरान कुछ तरह की सावधानियां भी बरतनी आवश्यक है. अगर आप किसी बीमारी के लिए दवा ले रहे हैं तो रक्तदान से पहले चिकित्सक की सलाह जरूर लें. इसके अलावा जो महिलाएं हीमोग्लोबिन और सेहत के मानकों पर खरी उतरती हैं वो भी रक्तदान कर सकती हैं, लेकिन पीरियड्स, प्रेग्नेंसी, ब्रेस्ट फीडिंग की स्थिति में उन्हें रक्तदान करने से बचना चाहिए.

नोट- इस लेख में दी गई तमाम जानकारियों को केवल सूचनात्मक उद्देश्य से लिखा गया है. इसकी वास्तविकता, सटीकता और विशिष्ट परिणाम की हम कोई गारंटी नहीं देते हैं. इसमें दी गई जानकारियों को किसी बीमारी के इलाज या चिकित्सा सलाह के लिए प्रतिस्थापित नहीं किया जाना चाहिए. इस लेख में बताए गए टिप्स पूरी तरह से कारगर होंगे या नहीं इसका हम कोई दावा नहीं करते है, इसलिए किसी भी टिप्स या सुझाव को आजमाने से पहले डॉक्टर से सलाह जरूर लें.

Related Articles