रजनीकांत की वजह से चुनाव हार गईं थीं जयललिता

0

चेन्नई। दक्षिण फिल्मों के सुपरस्टार रजनीकांत आज 66 साल के हो गए हैं। लेकिन इस बार वो अपना जन्मदिन नहीं मना रहे। रजनीकांत तमिलनाडु की सीएम जयललिता के निधन की वजह से दुखी हैं और उन्होंने अपने फैन्स से गुजारिश की है कि वो इस बार उनके जन्मदिन का जश्न न मनाएं। साथ ही वह खुद भी इस साल अपना बर्थडे नहीं मना रहे हैं।

रजनीकांत

रजनीकांत बीमार जयललिता से मिलने अस्पताल गए थे

जयललिता के निधन के बाद से ही तमिलनाडु शोक में डूबा हुआ है और इसी के चलतेसु परस्टार ने अपना जन्मदिन न मनाने का फैसला किया है। इसके अलावा उन्होंने लोगों से भी अनुरोध किया है की शहर में उनके जन्मदिन के मौके में किसी भी तरह के पोस्टर न लगाए जाये।

रविवार को साउथ इंडियन आर्टिस्ट एसोशिएशन की शोक सभा में पहुंचे रजनीकांत ने जयललिता से जुड़े किस्से शेयर किये। उन्होंने बताया की जयललिता 1996 का विधानसभा चुनाव उनकी वजह से हारी थीं। रजनीकांत ने बताया कि उस वक्त उन्होंने जयललिता की राजनीति की आलोचना की थी।

उन्होंने कहा था कि अगर वह सत्ता में आईं तो भगवान भी तमिलनाडु को बचा नहीं पाएंगे। रजनीकांत का यह बयान उस समय काफी सुर्खियों में रहा था । इतना ही नहीं जयललिता को याद करते हुए रजनीकांत ने बताया कि दोनों के संबंधों में खटास होने बाद भी वह उनकी बेटी ऐश्वर्या की शादी में आई थीं।

रजनी ने बताया कि बेटी की शादी में उन्होंने बस फॉर्मेलिटी के तौर पर जयललिता को इन्वाइट कर लिया था। उन्हें लग रहा था कि जयललिता नहीं आएंगी। लेकिन जयललिता न सिर्फ गईं बल्कि सभी समारोह में हिस्सा भी लिया। वहीँ जब जयललिता बीमार थीं तब रजनी भी उनसे मिलने अस्पताल गए थे। जयललिता पिछले काफी दिनों से बीमार चल रही थी और 5 दिसंबर को चेन्नई के एक हॉस्पिटल में उनका निधन हो गया।

 

 

loading...
शेयर करें