IPL
IPL

राजू पाल हत्याकांड की होगी सीबीआई जांच

इलाहाबाद। उत्तर प्रदेश सुप्रीम कोर्ट ने बीएसपी एमएलए राजू पाल हत्याकांड की जांच सीबीआई को सौंप दी। राजू पाल की पत्नी पूजा पाल की याचिका पर सुनवाई करते हुए कोर्ट ने यह फैसला सुनाया। 11 साल बाद इस मर्डर केस की सीबीआई जांच होगी। सीबीआई को 6 महीने में जांच पूरी कर रिपोर्ट फाइल करनी है। गौरतलब है कि इलाहाबाद पश्चिम से तत्कालीन बसपा विधायक राजू पाल की 25 जनवरी 2005 में दिनदहाड़े गोली मारकर हत्या कर दी थी। इस मामले में बाहुबली सपा नेता अतीक अहमद के भाई मोहम्मद अशरफ और पूर्व सपा विधायक कह्लिद अजीम को मुख्य आरोपी बनाया गया है।

 राजूपाल हत्याकांड

राजू पाल हत्याकांड, चुनावी रंजिश में की गई हत्या

 

जानकारी के मुताबिक अतीक अहमद इस सीट से पांच बार विधयक रह चुके हैं लेकिन 2014 में लोक सभा के लिए चुने जाने के बाद यह सीट खाली हो गई थी। 2005 विधान सभा चुनाव में सबको चौंकाते हुए राजू पाल ने अतीक के भाई मोहम्मद अशरफ को पराजित कर यह सीट जीत ली थी। जिसके बाद चुनावी रंजिश में उनकी हत्या कर दी गई थी। इस घटना के बाद दोनों भाइयों को गिरफ्तार कर लिया गया था लेकिन बाद में उन्हें जमानत पर रिहा कर दिया गया. पाल की मौत के बाद दुबारा हुए उपचुनाव में अशरफ ने पाल की पत्नी पूजा को हराकर फिर से इस सीट पर अपना कब्ज़ा जमा लिया लेकिन 2007 के विधानसभा चुनावों में पूजा पाल ने अशरफ को हराकर सीट पर अपना कब्ज़ा जमा लिया।

हाईकोर्ट में हुई थी सुनवाई

 

हाईकोर्ट ने पूजा पाल के पिटीशन का निपटारा करते हुए उन्हें सुनवाई कर रही जिला अदालत में अर्जी देने को कहा था। हाईकोर्ट के इस ऑर्डर को पूजा पाल ने सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी थी। आज सुप्रीम कोर्ट ने अपना फैसला सुनाया।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button