राज्यसभा चुनाव: कांग्रेस को तोड़ने पर टिकी हैं बीजेपी की उम्मीदें

0

देहरादून। उत्तराखंड में राज्यसभा की खाली हो रही सीटों पर उठापटक जारी हैं। खाली हो रही सीट के चुनाव में भाजपा की उम्मीदें शासनपक्ष को गिराने पर टिकी हैं। भाजपा ने राज्यसभा चुनाव के लिए मैदान में अभी तक अपना कोई आधिकारिक प्रत्याशी तो नहीं उतारा है। लेकिन स्वतंत्र नामांकन कराने वाले पार्टी के दो नेताओं में से किसे समर्थन दिया जाएगा। इस विषय पर पार्टी अनौपचारिक तौर पर जल्द कोई फैसला कर सकती है। सूत्रों के मुताबिक जो स्वतंत्र प्रत्याशी कुछ विधायकों के समर्थन को लेकर संदेह रहित होगा, भाजपा चुनाव में उसे वोट दे सकती है।

राज्यसभा चुनाव

राज्यसभा चुनाव में कौन होगा भाजपा का उम्मीदवार 

प्रदेश में राज्यसभा की खाली हो रही सीटों का चुनाव रोचक स्थिति में पहुंच गया है। कांग्रेस ने पूर्व सांसद प्रदीप टम्टा को पार्टी उम्मीदवार के तौर पर मैदान में उतारा है, तो दूसरी तरफ भाजपा ने सीधे तौर पर चुनाव से दूरी बना रखी हैं।

भाजपा विधायकों ने जिन दो स्वतंत्र प्रत्याशियों के नामांकन में समर्थक की भूमिका निभाई, वे दोनों ही प्रत्याशी वर्तमान में उत्तराखंड भाजपा में पद ग्रहण किये हुए हैं। ऐसे में भाजपा इन दोनों में से किस स्वतंत्र उम्मीदवार को अपना समर्थन व वोट देगी, इस बात कि चर्चा जोरदारी से चल रही हैं।

कौन होगा उत्तराखंड में बीजेपी का महारथी

अब  राज्यसभा चुनाव में बीजेपी की निगाहें कांग्रेस के उम्मीदवारों को पीछे करने पर टिकी हुई हैं। सूत्रों के मुताबिक जानकारी हैं कि स्वतंत्र प्रत्याशियों में जो भी कांग्रेस को ज़बरदस्त हार देने के काबिल नज़र आएगा। भाजपा उसी प्रत्याशी को अपना समर्थन देने का फैसला कर सकती है। इस मसले में जल्द अनौपचारिक तरीके से कोई फैसला होने की संभावना नज़र आ रही हैं।

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष अजय भट्ट का कहना है कि दोनों स्वतंत्र प्रत्याशियों में यदि समझौता हो जाता है, तो भाजपा आगे उसी के अनुसार निर्णय करेगी।

 

loading...
शेयर करें