राज्यसभा में मायावती केंद्र सरकार पर हुईं फायर, उठाया रोहित वेमुला का मुद्दा

0

राज्यसभा में मायावतीनई दिल्ली। जैसा कि माना जा रहा था कि इस बार भी संसद सत्र हंगामे से भरा रहेगा, ठीक वैसा ही हो रहा है। आज के दिन राज्यसभा की शुरूआत तो कुछ यही बयां कर रही है। राज्यसभा में मायावती ने हंगामे की शुरूआत की वहीं बाद में बीएसपी के सांसदों ने भी हंगामा काटा। अब तक चार बार राज्यसभा की कार्यवाही को स्थगित करना पड़ा है।

राज्यसभा में मायावती का हंगामा

राज्यसभा में मायावती ने हैदराबाद में आत्महत्या कर जान गंवाने वाले छात्र रोहित वेमुला के मुद्दे को लेकर जमकर हंगामा किया। राज्यसभा में मायावती ने केंद्र सरकार पर आरोप लगाया कि बाबासाहेब भीमराव अंबेडकर के अनुयायी रोहित को आत्महत्या करने के लिए विवश किया गया, क्योंकि आरएसएस की विचारधारा को जबरन थोपा जा रहा है।

सदन के उपसभापति पीजे कुरियन के बार-बार कहने पर भी मायावती शांत नहीं हुईं, और इसके बाद अन्य विपक्षी दलों के सदस्य भी नारेबाजी करते हुए सदन के वेल तक पहुंचे।

केंद्र सरकार और विपक्ष जेएनयू विवाद को लेकर बुधवार को राज्यसभा में बजट सत्र के दौरान पहली बार आमने-सामने हैं। राज्यसभा में दो बजे जेएनयू का मुद्दा उठाया जाएगा। सीपीएम के नेता सीतीराम येचुरी राज्यसभा में जेएनयू मुद्दे पर बहस की शुरुआत करेंगे। जबकि बीजेपी की तरफ से पहले वक्ता भूपेंद्र यादव होंगे। गृह मंत्री राजनाथ सिंह और केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी सरकार की ओर से जवाब देंगे।

भाजपा सांसद भूपेंद यादव ने जेएनयू विवाद और साथ ही डेविड हेडली की पेशी पर चर्चा के लिए नोटिस दिया है। डेविड हेडली ने अपनी गवाही में कहा था कि इशरत जहां एक आतंकी थी। भाजपा सांसद विजय गोयल ने भी नोटिस दिया है।

वहीं माना जा रहा है कि भाजपा जेएनयू विवाद पर आक्रामक रुख अख्तियार कर सकती है और इसे देशभक्तों और राष्ट्र विरोधियों के बीच की लड़ाई के तौर पर पेश कर सकती है। विपक्षी कांग्रेस जेएनयू विवाद को अभिव्यक्ति एवं विचारों की आजादी के बड़े मुद्दे से जोड़ रही है। जहां विपक्ष सरकार को घेरने के लिए एकजुट हो गया है। वहीं, भाजपा के एक नेता के अनुसार पार्टी को लगता है कि बहस को देशभक्तों और राष्ट्रविरोधियों के बीच का बहस बताने से उसे फायदा होगा।

loading...
शेयर करें