IPL
IPL

जिस दिन ढांचा ढहा था, उसी दिन बनेगा राम मंदिर

लखनऊ। फैजाबाद में रामचरित मानस में संसोधन को लेकर विवादों में रहे चित्रकूट के तुलसी पीठाधीश्वर और प्रख्यात राम कथा वाचक जगदगुरु राम भद्राचार्य ने एक बार फिर अयोध्या के विवादित स्थल पर भव्य राम मंदिर निर्माण की निर्धारित तिथि की खुले मंच से घोषणा कर एक नयी बहस को जन्म दे दिया है। जिस वक्‍त जगदगुरु राम भद्राचार्य खुले मंच से यह घोषणा कर रहे थे उस समय श्री रामजन्म भूमि न्यास के अध्यक्ष महंत नृत्य गोपालदास भी वहां मौजूद थे। उन्‍होंने कहा कि  6 दिसंबर 2018 तक मंदिर निर्माण का कार्य पूरा हो जाएगा।

राम मंदिर

राम मंदिर निर्माण की फैजाबाद में राम भद्राचार्य ने की घोषणा

मसौधा के महावा गांव में आयोजित राम कथा प्रवचन के मौके पर रामजन्म भूमि न्यास के अध्यक्ष महंत नृत्य गोपालदास की मौजूदगी में एक बार फिर राम मंदिर निर्माण की तिथि घोषित की गयी। ये घोषणा राम कथा वाचक राम भद्राचार्य ने की है। वे इस समय फैजाबाद में हैं और नौ दिवसीय राम कथा का प्रवचन कर रहे हैं। प्रवचन के दौरान ही उन्‍होंने राम मंदिर निर्माण की घोषणा कर एक नई बहस छेड़ दी। राम भद्राचार्य ने राम कथा के दौरान राम मंदिर आन्दोलन में अहम् भूमिका निभाने वाले परमहंस रामचंद्रदास और अशोक सिंघल के निधन को लेकर कहा कि ये लोग अयोध्या में भव्य राम मंदिर निर्माण का सपना लेकर चले गए, लेकिन अब उनका ये सपना जल्द पूरा होगा।

मंदिर बनाने नहीं अब उसके जीर्णोद्वार की जरूरत

प्रवचन के दौरान राम भद्राचार्य ने खुले मंच से हज़ारों लोगों की मौजूदगी में अयोध्या में मंदिर निर्माण की घोषणा की, उन्होंने कथा के दौरान ही अयोध्या में मंदिर निर्माण की बात शुरू कर दी जिसके बाद उन्होंने कहा की अयोध्या में राम मंदिर बनाने की क्या ज़रुरत है मेक शिफ्ट स्ट्रक्चर के रूप में मंदिर तो बन ही चूका है अब तो उसके जीर्णोद्घार की ज़रुरत है और यह कार्य वर्ष 2016 में शुरू हो जायेगा। राम भद्राचार्य ने राम कथा के दौरान राम मंदिर आन्दोलन में अहम् भूमिका निभाने वाले परमहंस रामचंद्रदास और अशोक सिंघल के निधन को लेकर कहा कि ये लोग अयोध्या में भव्य राम मंदिर निर्माण का सपना लेकर चले गए, लेकिन अब उनका ये सपना जल्द पूरा होगा।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button