राम मंदिर पर एक और विरोध

नई दिल्ली। राम मंदिर पर दिल्ली यूनिवर्सिटी में दो दिवसीय सेमिनार आयोजित किया जा रहा है लेकिन इस सेमिनार के शुरू होने से पहले ही कई स्टूडेंट यूनियनों ने राम मंदिर पर हो र‍हे सम्‍मेलन का विरोध किया है। विरोध कर रहे छात्रों ने कहा है कि इस सम्मेलन से यूनिवर्सिटी से माहौल खराब होगा। विरोध करने वाले छात्रों ने पुलिस के साथ झड़प भी की।

राम मंदिर

राम मंदिर सेमिनार की रूपरेखा

दिल्ली यूनिवर्सिटी के आर्ट फैकेल्टी में हो रहे इस सेमिनार का विषय ‘श्री राम जन्मभूमि मंदिर: उभरता परिदृश्य’ है। इस सेमिनार को अरूंधती वशिष्ठ अनुसंधान पीठ इसे ऑर्गनाइज कर रहा है। बीजेपी नेता सुब्रमणयम स्‍वामी इस संगठन के चीफ स्पीकर हैं। इस सेमिनार में प्रमुख इतिहासकार, आर्कियोलॉजिस्ट और लॉ-एक्पर्ट भाग ले रहे हैं। इस संगठन के संयोजक चंद्र प्रकाश ने बताया कि यह सेमिनार अयोध्या मुद्दे पर आए इलाहाबाद हाईकोर्ट के फैसले के बारे में स्टूडेंट्स को जानकारी देने के लिए हो रहा है।

विरोध करने वालों का बयान?
दिल्ली यूनिवर्सिटी की स्टूडेंट ऑर्गनाइजेशन आइसा का कहना है कि ‘सवाल यह है कि इस तरह के प्रोग्राम का एजुकेशनल फील्ड से क्या लेनादेना है। डीयू एडमिनिस्ट्रेशन की तरफ से इस प्रोग्राम को इजाजत देना इस बात का इशारा है कि एजूकेशन की फील्ड में सरकार अपने भगवा एजेंडे पर जोर दे रही है। वहीं क्रांतिकारी युवा संगठन ने कहा कि किसी ऐसे विषय जो हमेशा विभिन्न समुदायों के लोगों के बीच विवाद का मुद्दा रहा है पर चर्चा के बदले गरीबी, शिक्षा और बेरोजगारी जैसे ज्यादा महत्वपूर्ण मुद्दे विचार करने के लायक हैं।

डीयू ने क्या कहा?
जब डीयू मैनेजमेंट से इस बारे में पूछा गया तो उन्होंने बताया कि अरुंधति वरिष्ठ अनुसंधान नाम के ऑर्गनाइजेशन ने अपने प्रोग्राम के लिए वो वेन्यू बुक किया है जो कि बाहर के लोगों के लिए उपलब्ध रहता है। यूनिवर्सिटी ने साफ किया है कि उसका इस सेमिनार के सब्जेक्ट से कोई लेनदेना नहीं है।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button